आईसीआईसीआई बैंक ने लॉन्च किया ऑनलाइन प्लेटफॉर्म ‘ट्रेड इमर्ज’, बाज़ार के लिए सुविधाजनक होगा

नयी दिल्ली. निजी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक आईसीआईसीआई बैंक ने आज भारत में निर्यातकों और आयातकों को व्यापक डिजिटल बैंकिंग के साथ-साथ मूल्य वर्धित सेवाओं की पेशकश करने के लिए एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म ‘ट्रेड इमर्ज को लॉन्च करने की घोषणा की।

अपनी तरह की इस पहली पेशकश के जरिये सीमा पार व्यापार को परेशानी मुक्त, शीघ्र और सुविधाजनक बनाया जा सकेगा, क्योंकि यह एक ही स्थान पर सेवाओं की एक श्रृंखला प्रदान करती है। जिसके बाद कंपनियों को कई टचपॉइंट के साथ समन्वय करने की आवश्यकता नहीं रह जाती। इस प्लेटफॉर्म पर मिलने वाली बैंकिंग सेवाओं की सूची में चालू/बचत खाते की पेशकश, व्यापक व्यापार सेवाएं (साख पत्र/बैंक गारंटी/व्यापार ऋण आदि), डिजिटल समाधान जैसे कॉर्पोरेट इंटरनेट बैंकिंग और ट्रेड  ऑनलाइन, अत्याधुनिक विदेशी मुद्रा समाधान, भुगतान और संग्रह समाधान और क्रेडिट कार्ड  शामिल हैं। मूल्य वर्धित सेवाओं की सूची में शामिल हैं- व्यापार व्यवसाय का समावेश, 181 देशों में लगभग 15 मिलियन खरीदारों और विक्रेताओं के वैश्विक व्यापार डेटाबेस तक पहुंच, प्रतिष्ठित क्रेडिट ब्यूरो के माध्यम से संभावित ग्राहकों की सत्यापन रिपोर्ट, शिपमेंट बुकिंग और लास्ट माइल ट्रैकिंग के लिए लॉजिस्टिक सॉल्यूशन, और समुद्री बीमा जैसी बीमा सेवाएं। ये सभी सुविधाएं एक ही खिड़की के माध्यम से ऑनलाइन उपलब्ध हैं। ये सेवाएं अपने संबंधित क्षेत्रों में विशेषज्ञता रखने वाले भागीदारों के माध्यम से प्रदान की जाती हैं।

बैंक की कार्यकारी निदेशक विशाखा मुले ने कहा, ‘‘वर्षों से, भारत वैश्विक निर्यात-आयात क्षेत्र में एक निरंतर विकास इतिहास के साथ एक प्रमुख देश के रूप में उभरा है। देश की युवा आबादी, मजबूत उपभोक्ता मांग, स्वस्थ उत्पादन और सहायक सरकारी पहल जैसे महत्वपूर्ण फैक्टर्स ने विकास में योगदान दिया है। अप्रैल से अक्टूबर 2021 के दौरान, हमारा कुल निर्यात (संयुक्त रूप से मर्चेंडाइज और सेवाओं को मिलाकर) और आयात अनुमानतः  780 बिलियन अमेरिकी डॉलर रहा है और इसने पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में तीव्र वृद्धि दर्ज करायी है।”

‘ट्रेड इमर्ज पोर्टल निर्यात और आयात में जुटी कंपनियों को विभिन्न बैंकिंग और मूल्य वर्धित सेवाओं का एक व्यापक डिजिटल सूट प्रदान करता है। इस पहल का उद्देश्य निर्यातकों और आयातकों की दक्षता और उत्पादकता में वृद्धि करना है जिससे समय लेने वाली प्रक्रियाओं को कम किया जा सके। यह विभिन्न पहलों के माध्यम से कॉरपोरेट्स और उनके पूरे सिस्टम को कस्टमाइज डिजिटल बैंकिंग के साथ-साथ मूल्य वर्धित समाधान प्रदान करने के बैंक के प्रयास का एक हिस्सा है। इस प्लेटफॉर्म का लाभ सभी निर्यातकों और आयातकों के लिए उपलब्ध है, भले ही वे आईसीआईसीआई बैंक के ग्राहक न हों।

Related Articles

Back to top button
E-Paper