भाजपा सरकार में मजबूत हुआ अवैध शराब कारोबारियों का सिंडिकेट – अजय कुमार लल्लू

उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब के अवैध कारोबार और उसके सेवन से मौतों को लेकर कांग्रेस ने योगी आदित्यनाथ सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। बुधवार को कांग्रेस ने राज्यव्यापी विरोध प्रदर्शन के साथ जनपद मुख्यालयों पर धरना दिया और जहरीली शराब से उजड़े परिवारों को आर्थिक सहायता देने और शराब माफियाओं व दोषी अधिकारियों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की मांग की। कांग्रेस के प्रदेश मुख्यालय लखनऊ में प्रदेश अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू की मौजूदगी में धरना दिया गया।

इस धरने को सम्बोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू ने कहा कि राज्य में भाजपा की योगी आदित्यनाथ सरकार के कार्यकाल में अवैध जहरीली शराब कारीबरियो का सिंडिकेट दिन प्रतिदिन मजबूत हुआ है। उन्होंने आगे कहा कि अंबेडकर नगर, आजमगढ़ की घटना के बाद अलीगढ़ में जिस तरह 106 से अधिक लोगों की जान गई है, उससे साबित होता है कि सरकार शराब माफियाओं पर नकेल कसने में नाकाम हुई है या फिर उसे व्यवस्था का पूरा संरक्षण हासिल है। उन्होंने मांग उठाई कि इन मौतों की जिम्मेदारी लेते हुए आबकारी मंत्री को बर्खास्त किया जाना चाहिए।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि उत्तर प्रदेश में आबकारी विभाग के बढ़ते राजस्व से प्रसन्न मुख्यमंत्री ने आबकारी विभाग को मनमानी करने की छूट दे दी है, जिससे प्रदेश में लगभग दस हजार करोड़ रुपये के अवैध जहरीली शराब कारोबार फल-फूल रहा है। उन्होंने कहा, ‘यदि सरकार का इसे संरक्षण नही है, तो इतनी मौतों के बाद भी इस पर रोक क्यों नही लग पा रही है? प्रदेश यह सवाल मुख्यमंत्री जी से पूछ रहा है और उन्हें सरकार के मुखिया के रूप में आगे आकर जवाब देना चाहिए।’

कांग्रेस नेता ने मुख्यमंत्री व आबकारी मंत्री से पूछा कि आखिर इन मौतों के लिए जिम्मेदार कौन है? उन्होंने कहा कि हर घटना के बाद कार्रवाई करने की बड़ी-बड़ी बातें करने के बाद सब कुछ पहले की तरह हो जाता है, क्योंकि मुख्यमंत्री या आबकारी मंत्री कभी भी इनपर ऐसी कार्रवाई नहीं करते जिससे कि अवैध शराब के कारोबार में लगे लोगों के हौसले पस्त हों।

वहीं, पूर्व राज्यसभा सदस्य व छत्तीसगढ़ कांग्रेस प्रभारी डॉ. पी.एल. पुनिया ने कहा कि हाईकोर्ट 12 अप्रैल 2017 को ही प्रदेश में जहरीली शराब के कारोबार पर नकेल कसने का आदेश दे चुका है, लेकिन सरकार ने कोई कठोर कार्रवाई करने के बजाय उन्हें संरक्षण देने का काम किया, जिसके सत्ता की नाक के नीचे अवैध शराब का कारोबार फल-फूल रहा है। उनके मुताबिक, प्रदेश में 10 हजार करोड़ का अवैध शराब का व्यवसाय चल रहा है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू ने पूछा कि सत्ता व्यवस्था यदि शराब सौदागरों के साथ नही है तो विभाग के मंत्री से जवाब तलब क्यों नही करते मुख्यमंत्री? उन्होंने अलीगढ़ सहित अन्य जनपदों में जहरीली शराब के कारोबारियों और उसमें संलिप्त अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही करने और उजड़े परिवारों की आर्थिक सहायता करने के साथ प्रत्येक परिवार के एक व्यक्ति को सरकार में स्थायी नौकरी देने की मांग की है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper