भारतीय संस्कृति के महत्व को बढ़ाती है संस्कृत भाषा : आनंदीबेन पटेल

संस्कृत भाषा

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा कि संस्कृत देव भाषा है। संस्कृत भारत की आत्मा है। देश के सांस्कृतिक, आध्यात्मिक, धार्मिक, दार्शनिक, ऐतिहासिक और सामाजिक जीवन का विकास संस्कृत में ही समाहित है। भारत की प्रतिष्ठा में संस्कृत एवं संस्कृति ही मूलभूत तत्व हैं। संस्कृत साहित्य वास्तव में ज्ञान का भण्डार है। कहा कि, संस्कृत को जाने बिना भारतीय संस्कृति की महत्ता को जाना नहीं जा सकता।

प्रवासी भारतीय दिवस पर CM योगी ने दी शुभकामनाएं, विकास में योगदान को सराहा

नई शिक्षा नीति से संस्कृत भाषा को मजबूती मिलेगी

संस्कृत हमारी वैचारिक परम्परा व जीवन मूल्यों की वाहिनी

स्कूली शिक्षा में अब त्रि-भाषा सूत्र चलेगा

यह बातें संस्कृत भारती, अवध प्रान्त की ओर से शनिवार को राजभवन सभागार में स्मारिका ‘अवधसम्पदा’ के लोकार्पण के अवसर पर उपस्थित लोगों से कहीं। कहा कि, मुझे विश्वास है कि संस्कृत भारती द्वारा प्रकाशित पुस्तक ‘अवध सम्पदा’ देव भाषा संस्कृत को और आगे ले जाने में अपनी विशिष्ट भूमिका का निर्वहन करेगी।

उन्होंने कहा कि, संस्कृत वस्तुतः हमारी संस्कृति का मेरूदण्ड है, जिसने हजारों वर्षों से हमारी अनूठी भारतीय संस्कृति को न केवल सुरक्षित रखा है, बल्कि उसका संवर्धन तथा पोषण भी किया है। यह भाषा हमारी वैचारिक परम्परा, जीवन दर्शन, मूल्यों व सूक्ष्म चिन्तन की वाहिनी है। हमारे देश की हजारों सालों की वैचारिक प्रज्ञा को समझने के लिए संस्कृत ही एक माध्यम है।

स्कूली शिक्षा में अब त्रि-भाषा सूत्र चलेगा

कहा कि संस्कृत भाषा को नई शिक्षा नीति में विशेष स्थान प्राप्त हुआ है। नई शिक्षा नीति के अन्तर्गत संस्कृत की प्रासंगिकता को नई दिशा मिल सकती है। स्कूली शिक्षा में अब त्रि-भाषा सूत्र चलेगा। इसमें संस्कृत के साथ तीन अन्य भारतीय भाषाओं का विकल्प होगा। इससे आज की युवा पीढ़ी संस्कृत भाषा के अध्ययन-अध्यापन से लाभान्वित होगी।

नई शिक्षा नीति से संस्कृत भाषा को मजबूती मिलेगी

कहा कि नई शिक्षा नीति से संस्कृत भाषा को मजबूती मिलेगी, संस्कृत आधुनिक विज्ञान की भाषा है। आज देश में कई गांव ऐसे हैं, जहां सम्पूर्ण संस्कृत का आचरण होता है। हम सभी को संस्कृत भाषा के प्रचार के लिए प्रयासरत होना चाहिए।

संस्कृत विश्वविद्यालय बहुविषयी संस्थान बनेंगे

बताया कि नई शिक्षा नीति में संस्कृत के लिए जो प्रावधान किए गये हैं, उनमें त्रि-भाषा की मुख्य धारा में विकल्प के साथ विद्यालय और उच्चतर शिक्षा के सभी स्तरों पर संस्कृत का विकल्प उपलब्ध कराया जाएगा। फाउंडेशन और मिडिल लेवल पर सरल संस्कृत की पुस्तकें, माध्यमिक कक्षा तक संस्कृत पढ़ाई जाएगी। उच्चतर शिक्षा की मजबूती के लिए समकालीन विषयों जैसे गणित, खगोल शास्त्र, दर्शन शास्त्र, नाटक, योग आदि के साथ संस्कृत विश्वविद्यालय बहुविषयी संस्थान बनेंगे। सभी भाषाओं का शिक्षण नवीन, अनुभवात्मक, एप्स, सांस्कृतिक पहलुओं एवं वास्तविक जीवन के अनुभवों के साथ कराया जाएगा।

इसके साथ ही नैतिक मूल्यों पर जोर दिया जाएगा। पंचतंत्र, हितोपदेश, जातकों की कहानियां पढ़ाये जाने के साथ सभी भारतीय भाषाओं में ई-कन्टेन्ट, सॉफ्टवेयर, ई-सामग्री तैयार की जायेगी।

संस्कृत भाषा के प्रसार के लिए व्यापक कार्ययोजना तैयार करें

उन्होंने कहा कि जिम्मेदार लोग नवीन शिक्षा नीति के अनुसार संस्कृत तथा साहित्य के विस्तार की व्यापक कार्य योजना तैयार करें। कार्य योजना का निर्माण आधुनिक संदर्भों में किया जाए, जिससें संस्कृत में विद्यमान महान ज्ञान सम्पदा को अधिकत्तम लोगों तक पहुंचाया जा सके।

इसके पूर्व संस्कृत भारती के प्रान्त अध्यक्ष शोभन लाल उकील ने स्वागत तथा सचिव कन्हैया लाल झा ने संगठन की संगठनात्मक ढांचा को विस्तार से बताते हुए कहा कि संस्कृत भारती का प्रयास है कि संस्कृत सबके मुख में हो। संस्कृत का सर्वत्र सम्मान है। कार्यक्रम का संचालन संगठन मंत्री डॉ. गौरव नायक तथा आभार ज्ञापन जितेन्द्र प्रताप सिंह ने किया। इस मौके पर प्रशान्त भाटिया, नीरज अग्रवाल समेत कई प्रमुख लोग उपस्थित रहें।

Related Articles

Back to top button
E-Paper