कृषि विधेयकों के विरोध में भारत बंद : सड़कों पर उतरे किसान, कई संगठनों का मिला समर्थन

दिल्ली / लखनऊ । संसद से पारित हो चुके तीन कृषि विधेयकों के विरोध में किसान संगठनों ने शुक्रवार को देशव्यापी आंदोलन का आह्वान किया है। पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में इसका असर सुबह से ही दिखने लगा है। पंजाब के किसान बृहस्पतिवार से ही रेल ट्रैक पर बैठ गए हैं। यूपी में सपा ने किसान कर्फ्यू का आह्वान किया है। किसान आंदोलन को अन्य कई संगठनों का मिला समर्थन मिला है।

कृषि विधेयकों के विरोध किसान अब आर-पार की लड़ाई के मूड में हैं। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर प्रस्तावित भारत बंद का असर सुबह से ही नजर आ रहा है। हरियाणा में किसानों-आढ़तियों ने कई राजमार्गों को जाम कर दिया है। आंदोलन के मद्देनजर रेलवे ने शनिवार तक 20 विशेष ट्रेनें आंशिक रूप से रद्द और पांच को गंतव्य से पहले रोक दिया है।

पंजाब में किसान मजदूर संघर्ष समिति के रेल रोको आंदोलन का अन्य किसान व मजदूर संगठनों ने भी समर्थन दिया है। किसानों ने अमृतसर और फिरोजपुर में रेल पटरियों पर कब्जा कर लिया है। भारतीय किसान यूनियन (एकता उग्रहन) के कार्यकर्ताओं ने बृहस्पतिवार सुबह ही बरनाला और संगरूर में रेल पटरियों को जाम कर दिया। इस बीच रेलवे ने कहा है की अनलॉक के बाद रेल सेवा बाधित होने से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति प्रभावित होगी। भारत बंद के दौरान हरियाणा में आज बाजार बंद रहेंगे। बड़ी तादाद में किसान प्रमुख रास्तों और रेल ट्रैक जाम कर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में भी किसान आंदोलन का व्यापक प्रभाव दिख रहा है। सपा ने सभी जिलों में धरना-प्रदर्शन केने की घोषणा की है। किसानों के समर्थन में कांग्रेस 28 सितंबर को विधानभवन पर प्रदर्शन करेगी। कांग्रेस का आज से 31 अक्तूबर तक किसान जागरूकता महाभियान भी प्रारंभ हो गया है।

उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने हाल ही में तीन कृषि विधेयक कृषि उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक-2020 संसद से पास कराए हैं। किसान इन विधेयकों का विरोध कर रहे हैं। उधर सरकार इन विधेयकों को किसान हित में बता रही है। किसान संगठनों का कहना है कि इससे न्यूनतम समर्थन मूल्य खत्म करने का रास्ता खुल जाएगा और बड़े कॉरपोरेट घरानों का खेती किसानी पर कब्जा हो जाएगा। वहीँ कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कांग्रेस पर देश को गुमराह करने का आरोप लगाया है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper