भारत इजरायल संबंधों ने लगायी छलांग, एफटीए पर फिर से बातचीत शुरू करने का फैसला

यरुशलम इजरायल ने भारत के साथ अपने रिश्तों को आगे बढ़ाते हुए अंतरराष्ट्रीय सौर गठजोड़ (आईएसए) में शामिल होने तथा भारत के साथ मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) पर बातचीत पुन: शुरू करने का फैसला किया है।

इजरायल

विदेश मंत्री एस जयशंकर और इजरायल के वैकल्पिक प्रधानमंत्री एवं विदेश मंत्री याइर लैपिड के साथ आज द्विपक्षीय बैठक में ये निर्णय लिये गये। इस बैठक में दोनों देशों के बीच लोगों के आवागमन को बहाल करने के लिए एक-दूसरे के वैक्सीन प्रमाणपत्र को मान्यता देने का भी फैसला लिया गया।

डॉ. जयशंकर ने बैठक के बाद अपने वक्तव्य में इजरायल के आईएसए में शामिल होने के फैसले पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि कोप-26 बैठक के करीब आने के मद्देनज़र हरित प्रगति हरित अर्थव्यवस्था के हमारे एजेंडा में प्रगति बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि इजरायल के कारोबारी प्रतिनिधियों के साथ उनकी बैठक काफी सफल रही है और इसमें दोनों देशों के बीच नवान्वेषण, डिजीटल, हरित प्रगति एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने की संभावनाओं पर चर्चा हुई।

डॉक्टर विवेक लाल को लाइफटाइम एचीवमेंट अवॉर्ड, दुबई में किया गया सम्मानित

विदेश मंत्री ने भारत इजरायल राजनयिक संबंधों के 30वें वर्ष में प्रवेश को याद करते हुए कहा कि हमारे अधिकारी भारत इजरायल एफटीए पर बातचीत शुरू करने पर सहमत हो गये हैं। नवंबर में पहली बैठक होगी और जून 2022 तक बातचीत पूरी होने की संभावना है।

डॉ. जयशंकर ने कहा कि कोविड काल में यात्रा की सुविधा बहाल करने के लिए हम दोनों देश काम कर रहे थे। इस बारे में सैद्धांतिक रूप से हमने एक दूसरे के वैक्सीन प्रमाणन की प्रक्रिया को परस्पर मान्यता देने पर सहमति जतायी है। अभी अंतरिम व्यवस्था में इजरायल कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने वालों को इजरायल आने की अनुमति देगा।

विदेश मंत्री इजरायल की पांच दिन की यात्रा पर रविवार को यहां पहुंचे हैं। आज उन्होंने याद वाशेम मेमोरियल में हॉलोकास्ट के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की और 1960 में भूदान आंदोलन में शरीक हुए सर्वोदय कार्यकर्ताओं की याद में एक शिलापट्ट का विमोचन किया।

Related Articles

Back to top button
E-Paper