अगले साल इंटरपोल की 90वीं महासभा की मेजबानी करेगा भारत

इस्तांबुल.  भारत अगले वर्ष नयी दिल्ली में इंटरपोल की 90वीं महासभा की मेजबानी करेगा, क्योंकि भारतीय उम्मीदवार प्रवीण सिन्हा को कार्यकारी समिति में एशिया के लिए प्रतिनिधि चुन लिया गया है।

अंतरराष्ट्रीय आपराधिक पुलिस संगठन (इंटरपोल) ने ट्वीट कर कहा, ”इंटरपोल की तुर्की से भारत तक हर साल अलग-अगल स्थानों पर महासभा आयोजित होती है और 90वीं महासभा 2022 में नयी दिल्ली में आयोजित होगी।

भारत के उम्मीदवार केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के विशेष निदेशक प्रवीण सिन्हा गुरुवार को कड़े मुकाबले में चीन और सिंगापुर के उम्मीदवार को हराकर इंटरपोल की कार्यकारी समिति में एशिया के प्रतिनिधि चुने गये थे। नयी कार्यकारी समिति के सदस्यों ने चुनाव के बाद गुरुवार को इस्तांबुल में अपना पहला सत्र आयोजित किया।

उन्होंने ट्वीट किया कि इंटरपोल की नवनिर्वाचित कार्यकारी समिति के सदस्यों ने तुर्की के इस्तांबुल में अपना पहला सत्र आयोजित किया। इंटरपोल महासभा के निर्णयों के कामकाज का देखरेख करने वाली कार्यकारी समिति में 13 सदस्य होते हैं, जिसमें एक अध्यक्ष, तीन उपाध्यक्ष और नौ प्रतिनिधि शामिल होते हैं। ये प्रतिनिधि दुनियाभर में इंटरपोल के चार क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करते हैं।

संयुक्त अरब अमीरात के अहमद नासिर अल रायसी को इंटरपोल महासभा का नया अध्यक्ष चुना गया है। रायसी इंटरपोल के संविधान के अनुच्छेद 16 के तहत तीन दौर के मतदान के बाद अध्यक्ष चुने गये।

 अल रायसी को अंतिम दौर में कुल 68.9 प्रतिशत मतदान प्राप्त हुए। अध्यक्ष के रूप में उनका कार्यकाल चार वर्षों के लिये होगा। वह अपने कार्यकाल के दौरान कार्यकारी समिति की बैठकों की अध्यक्षता करेंगे।

संगठन के वरिष्ठ पूर्णकालिक अधिकारी महासचिव जुर्गन स्टॉक ने अल रायसी की नियुक्ति का स्वागत किया है।

सांगठनिक चुनाव की प्रक्रिया तुर्की में 23 नवंबर से 25 नवंबर के बीच पूरी हुई थी। प्रत्येक साल इसका आयोजन किया जाता है, जिसमें सामान्य नीति, अंतरराष्ट्रीय सहयोग के लिए आवश्यक संसाधन, कार्य विधियों, वित्त और अन्य गतिविधि संबंधी कई निर्णय शामिल होते हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper