दिल्‍ली ब्‍लास्‍ट में सामने आया ईरानी कनेक्‍शन, कैब से आये थे ब्लास्ट करने वाले, चालक से पूछताछ

नई दिल्ली। एपीजे अब्दुल कलाम रोड पर शुक्रवार शाम हुए ब्लास्ट के मामले में दिल्‍ली पुलिस को मौके से मिले पत्र में ईरानी कनेक्शन का खुलासा हुआ है। इसके अलावा वहां से कुछ सीसीटीवी फुटेज मिले हैं। इनसे खुलासा हुआ है कि कैब से आये दो युवकों ने यहां पर बम रखा था। पुलिस टीम ने कैब चालक से पूछताछ भी की है। इसे लेकर आगे जांच की जा रही है।

दिल्‍ली

जानकारी के अनुसार स्पेशल सेल को मौके से एक पत्र मिला था जो इजराइल के एंबेसडर को लिखा गया था। उक्त पत्र में धमकी दी गई है और इस ब्लास्ट को महज एक ट्रेलर बताया गया है। इसमें दो इरानी शहीदों के नाम लिखे गए हैं जिनमें कासिम सुलेमानी का नाम है जो ईरान का जनरल था। जनवरी 2020 में अमेरिका ने ड्रोन स्ट्राइक में उसे मार दिया था। वहीं दूसरा नाम मोहसिन फखरिज़्देह का है जो इरान का बड़ा न्यूक्लियर साइंटिस्ट था। बीते साल नवंबर में उसकी हत्या कर दी गई थी। इस पत्र में मिली धमकी के बाद इजरायल दूतावास की सुरक्षा को भी बढ़ा दिया गया है।

Breaking : दिल्‍ली में धमाके के बाद सीएम योगी ने जारी किए ये निर्देश, पूरे यूपी में हाई अलर्ट

कैब से आये थे ब्लास्ट करने वाले

जांच के दौरान स्पेशल सेल ने इस रोड पर लगे हुए सभी कैमरों की सीसीटीवी फुटेज निकाली है। इसमें उन्होंने देखा है कि कैब में दो युवक सवार होकर वहां पर आए थे। मौके से कुछ देर पहले ही वह उतर गए। इसके बाद वह पैदल उस जगह पहुंचे और बम को रखकर चले गए। इसके बाद स्पेशल सेल की टीम ने उस कैब चालक से पूछताछ की है जिसकी गाड़ी में बैठकर वह इस जगह आये थे। उससे मिली जानकारी की मदद से पुलिस अब बम लगाने वालों की तलाश में जुट गई है।

दिल्‍ली में ब्लास्ट की घटनाएं

सितम्बर 7, 2011: सुबह क़रीब सवा दस बजे दिल्‍ली हाईकोर्ट के गेट नंबर पांच के बाहर बम धमाका नौ मरे, 50 के क़रीब घायल।

मई 25, 2011: दिल्ली हाई कोर्ट के बाहर मामूली धमाका, कोई हताहत नहीं।

सितम्बर 19, 2010: मोटरसाइकिल पर सवार अज्ञात बंदूकधारियों ने दिल्ली में राष्ट्रमंडल खेलों से पहले जामा मस्जिद के बाहर विदेशी पर्यटकों की एक बस को निशाना बनाया और दो ताईवानी नागरिकों को घायल कर दिया।

सितम्बर 27, 2008: दिल्ली में महरौली के बाज़ार में फेंके गए एक देसी बम हमले में तीन लोग मारे गए।

सितम्बर 13, 2008: दिल्ली में अलग-अलग जगहों पर हुए बम धमाकों में कम के कम 26 लोग मारे गए और अनेक घायल हुए।

अप्रेल 14, 2006: दिल्ली की ऐतिहासिक जामा मस्जिद के प्रांगण में दो धमाके, 14 लोग घायल।

अक्टूबर 29, 2005: शहर के सरोजिनी नगर, पहाड़गंज, गोविन्दपुरी में तीन क्रमवार धमाके 59 से ज़्यादा मौतें, 100 के ऊपर घायल।

मई 22 , 2005: दो सिनेमाघरों में हुए धमाकों में दो मरे, कई घायल।

जून 18 , 2000: लाल किले के पास हुए ताकतवर बम धमाकों में एक आठ साल की बच्ची सहित दो लोगों की मौत।

मार्च 16, 2000: भीड़ भाड़ भरे सदर बाज़ार के इलाके में धमाका, सात लोगों की मौत।

जनवरी 6, 2000: पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन पर खड़ी एक ट्रेन के भीतर धमाका 20 लोग घायल।

Related Articles

Back to top button
E-Paper