आईआरसीटीसी अप्रैल से चलाएगा एसी और स्लीपर बोगियों वाली पहली भारत-दर्शन ट्रेन

लखनऊ भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) वातानुकूलित (एसी) और स्लीपर (शयनयान) बोगियों वाली पहली भारत-दर्शन ट्रेन अप्रैल से चलाएगा। फिलहाल अभी आईआरसीटीसी स्लीपर और एसी बोगियों वाली अलग-अलग ट्रेनें चलाता है।

आईआरसीटीसी

भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम के मुताबिक, सुपरफास्ट ट्रेनों की तरह अब पर्यटन और दार्शनिक स्थलों की सैर कराने वाली भारत दर्शन ट्रेन में स्लीपर के साथ एसी क्लास की बोगियां अप्रैल महीने से लगाई जाने की तैयारी है। इससे एसी और स्लीपर क्लास के पर्यटक भारत दर्शन ट्रेन में एक साथ सफर कर सकेंगे।

Read Also : माघ मेला : मौनी अमावस्या पर श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़, संगम तट पर लगाई आस्‍था की डुबकी

भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम अभी अपने यात्रियों की जरूरत के हिसाब से स्लीपर और एसी बोगियों वाली भारत दर्शन ट्रेनों को अलग-अलग चलाता है। स्लीपर वाली भारत दर्शन ट्रेनों की यात्रा के दौरान औसतन प्रतिदिन प्रति व्यक्ति करीब 945 रुपये का खर्च आता है। इसमें स्लीपर की यात्रा सहित यात्रियों को तीनों समय के शाकाहारी भोजन,बसों से स्थानीय भ्रमण और लॉज में ठहरने की सुविधा आईआरसीटीसी देता है। यह आईआरसीटीसी की सबसे सस्ती यात्रा होती है, जिसमें अधिकांश धार्मिक स्थलों की सैर कराई जाती है।

इसके अलावा एसी बोगियों वाली आईआरसीटीसी की डीलक्स ट्रेन भी है। इसमें तीनों समय का खाना, एसी कार से स्थानीय भ्रमण और थ्री स्टार रेटिंग वाले होटलों में ठहरने की व्यवस्था की जाती है। आईआरसीटीसी एसी और नॉन एसी क्लास में यात्रा करने वाले पर्यटकों की मांग बढ़ाने के लिए यह नया प्रयोग करने जा रहा है। फिलहाल 12 बोगियों वाली भारत दर्शन ट्रेन में छह से सात एसी और पांच से छह स्लीपर की बोगियां लगाई जाएंगी। भारत दर्शन ट्रेन में एसी और स्लीपर क्लास के यात्रियों के एक साथ यात्रा करने के बाद भी ठहरने और स्थानीय भ्रमण के लिए अलग-अलग प्रबंध किए जाएंगे।

Related Articles

Back to top button
E-Paper