समुद्र में तेल रिसाव के बाद इजरायल ने बंद किया भूमध्यसागरीय तट, खतरे में जीव-जंतु

इजरायल

इजरायल में समुद्र में तेल रिसाव के बाद सरकार ने पर्यावरण हित में निर्णय लेते हुए भूमध्यासगरीय तट को बंद कर दिया है। तेल रिसाव के कारण जीव-जंतुओं के लिए खतरा पैदा हो गया है। यहां की सरकार ने रविवार को अगले नोटिस तक सभी भूमध्यसागरीय तटों को बंद करवा दिया है।

इस देश से इंसानों में बर्ड फ्लू का पहला मामला आया सामने, दहशत का माहौल

बताया जा रहा है कि रिसाव के बाद कई टन तेल समुद्र में 100 मील से अधिक दूरी तक फैल गया है। इसे देश की सर्वाधिक भीषण पारिस्थितिकी आपदाओं में से एक कहा जा रहा है। पिछले सप्ताह भीषण तूफान के बाद समुद्र में तेल फैल गया था। हालांकि, तेल रिसाव के सही कारण का अब तक पता नहीं चल पाया है।

इजरायल की ‘नेचर एंड पार्क्स अथॉरिटी’ ने इस घटना को देश के इतिहास में सर्वाधिक भीषण पारिस्थितिकी आपदाओं में से एक करार दिया है, जिससे समुद्री जीव-जंतुओं के लिए खतरा पैदा हो गया है। स्वयंसेवी शनिवार को तेल की परत हटाने के काम में मदद करने पहुंचे, लेकिन इनमें से कई लोग इसकी गंध के चलते बीमार हो गए, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू रविवार को देश के सबसे बड़े बीच पर आए और उन्होंने अच्छा कार्य करने के लिए पर्यावरण मंत्रालय की सराहना की है। इजरायल की सरकार ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए रविवार को अगले नोटिस तक अपने सभी भूमध्यसागरीय तटों को बंद कर दिया।

उल्लेखनीय है कि साल 2014 में अरावा मरुस्थल में कच्चा तेल फैल गया था जिससे काफी नुकसान हुआ था। सरकार ने लोगों को चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि वह तटीय स्थान पर जाने से बचें क्योंकि इससे उनकी सेहत को खतरा हो सकता है।  सरकार का कहना है कि यहां की साफ-सफाई में लाखों रुपये की जरूरत पड़ेगी।

Related Articles

Back to top button
E-Paper