चीन सीमा पर आईटीबीपी ने बदला अपना कमांडर, एलएसी पर अग्रिम चौकियों की होगी जिम्मेदारी

नई दिल्ली। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) बल ने मणिपुर कैडर के 1999 बैच के आईपीएस अधिकारी लहरी दोरजी ल्हाटू को लद्दाख में चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर सैनिकों का नेतृत्व करने के लिए नया कमांडर नियुक्त किया है। वह इंस्पेक्टर जनरल (आईजी) दीपम सेठ की जगह लेंगे, जो लद्दाख में चीन के साथ एलएसी पर तैनात बल के जवानों की कमान संभाल रहे थे।

आईटीबीपी

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि उत्तराखंड कैडर के 1995 बैच के भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारी सेठ का तबादला आईटीबीपी मुख्यालय में कर दिया गया है। आईजी सेठ को उनके सामान पद पर तैनात किया गया है और वह दिल्ली में आईटीबीपी मुख्यालय में विजिलेंस का प्रभार संभालेंगे। आईटीबीपी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि स्थानान्तरण ‘दिनचर्या’ है क्योंकि कार्मिकों को ‘उच्च-ऊंचाई वाले खतरनाक असाइनमेंट’ से बदलने के लिए बल में अभ्यास होता है लेकिन इसे आईटीबीपी की ओर से एक रणनीतिक कदम के रूप में भी देखा जा रहा है।

गजब! बिहार के इन दो छात्रों ने केले के पेड़ से बना दी बिजली, अभी 10वीं भी नहीं हैं पास

आईपीएस ल्हाटू हाल ही में सीमा रक्षक बल में शामिल हुए थे। उन्होंने पहले राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) और विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) में काम किया है। अगले कुछ दिनों में नए आईजी के लद्दाख में कार्यभार संभालने की उम्मीद है। सूत्रों ने कहा कि लेह आईटीबीपी उत्तर-पश्चिम सीमांत का आधार है और बल के आईजी रैंक का अधिकारी सेना में एक मेजर जनरल रैंक के बराबर होता है। आईटीबीपी के इंस्पेक्टर जनरल (आईजी) की चीन के साथ 3,488 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा की अग्रिम चौकियों पर बल के जवानों की तैनाती की जिम्मेदारी होती है।

चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) हिमालय में काराकोरम दर्रे से लेकर अरुणाचल प्रदेश में जाचेप ला तक चलती है। चीन के साथ 21 सितम्बर को हुई छठे दौर की सैन्य वार्ता से अग्रिम चौकियों पर तैनात भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) की ओर से नॉर्थ वेस्ट फ्रंटियर के आईजी दीपम सेठ भी भारतीय प्रतिनिधिमंडल में शामिल हुए थे। पूर्वी लद्दाख में लंबे समय से चली आ रही विघटन प्रक्रिया पर आगे बढ़ने के लिए चीन के साथ हुई सातवें और 8वें दौर की सैन्य वार्ता का भी सेठ केंद्रीय गृह मंत्रालय के प्रतिनिधि के रूप हिस्सा रहे हैं।

वर्तमान में, दोनों पक्षों के हजारों सैनिकों को पिछले साल मई से ठंड की स्थिति में घर्षण बिंदुओं पर तैनात किया गया है। उन्होंने लद्दाख में अतिरिक्त आईटीबीपी जवानों को शामिल करने की भी देखरेख की जो गतिरोध के मद्देनजर तैनात किए गए थे। उन्हें 2019 के मध्य में नव-निर्मित गठन का नेतृत्व करने के लिए तैनात किया गया था और गणतंत्र दिवस की विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति के पुलिस पदक से नवाजा गया था।

Related Articles

Back to top button
E-Paper