KANPUR NEWS: एक क्लिक में पढ़ें कानपुर की लेटेस्ट खबर

महानगर कांगेस कमेटी ने राजीव गांधी की जयंती पर पुष्पाजंलि कर किया नमन

कानपुर। शहर के कांग्रेस जनों ने देश में संचार क्रांति के अग्रदूत पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी को गुरुवार उनके जन्म दिवस पर याद किया। मोतीझील स्थित राजीव वाटिका में चित्र पर माल्यार्पण व पुष्पाजंलि कर नमन किया।

मोतीझील राजीव वाटिका में गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण और पुष्पांजलि के बाद उपस्थित लोगो को सम्बोधित करते हुये अध्यक्ष हरप्रकाश अग्निहोत्री ने उनके जीवन पर प्रकाश डालते हुये कहा कि देश को कम्प्यूटर युग मे ले जाने वाले राजीव गांधी को देश संचार क्रांन्ति के अग्रदूत, पंचायत राज अधिनियम के प्रणेता थे। 18 वर्ष तक की आयु वर्ग के युवाओं को मताधिकार देने के लिए हमेशा याद करेंगा। 21 वीं सदीं मे भारत का प्रवेश सिर्फ राजीव गांधी की बदौलत संभव हुआ है तथा कहा कि राजीव गांधी युगो-युगो तक याद किये जायेगे। वह भारत के सच्चे सपूत थे।

कार्यक्रम का संचालन और संयोजन पार्षद कमल शुक्ल बेबी ने किया।पुष्पांजलि अर्पित करने वालो मे प्रमुख रुप से शंकर दत्त मिश्र, निजामुद्दीन खां, श्यामदेव सिंह, अतहर नईम, अनिल बाजपेई, महेन्द्र त्रिपाठी पुत्तू, गुलाब सिंह कोरी, कृपेश त्रिपाठी, प्रतिभा अटल पाल, शबनम आदिल बैतूल खां मेवाती, सैमुअल सिंह लकी, नरेश त्रिपाठी, राजू कश्यप, के0के0 अवस्थी, डा0 आरके जगत, अनुराग सिंह, आकाश अवस्थी, गोपाल पासवान, संजय शुक्ला, असित सिंह कुशवाहा, रवि तिवारी, इखलाक अहमद डेविड, धर्मेन्द्र शुक्ला, मधु सिंह, यासनीन बेगम, राकेश मिश्रा, फजल खान, ब्रजभान राय, जफर शाकिर, एजाज रशीद, सुबोध बाजपेई आदि शामिल थे।  

श्रम कानूनों में संशोधन को लेकर श्रमायुक्त कार्यालय में श्रमिकों का प्रदर्शन

कानपुर। श्रमिक संगठनों ने गुरुवार को अपर श्रमायुक्त कार्यालय सर्वोदय नगर कानपुर के सामने श्रम कानूनों में संशोधन किए जानें के खिलाफ प्रदर्शन किया। केंद्रीय ट्रेड यूनियन के सयुंक्त मंच के नेताओं ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार पूंजीपतियों के इशारे पर काम कर रही है और सरकार उनके मनमुताबिक कानूनों में संशोधन कर के मज़दूरों के हितों और अधिकारों के साथ खिलवाड़ कर रही है।

श्रम कानूनों के द्वारा प्राप्त अधिकार अन्तर्राष्ट्रीय श्रम संगठन के कनवेंशन से मिले हुए हैं। श्रमिक संगठनों ने जनप्रतिनिधियों से अपील की है कि वे आज से शुरू हो रहे विधान सभा सत्र में मजदूर विरोधी कानूनों को पारित होने से रोके। प्रदर्शन में प्रमुख रूप से राजेश शुक्ला,असित कुमार सिंह, एस ए एम ज़ैदी, रानप्रताप सिंह,कुलदीप सक्सेना,धर्मदेव, राजबली,दिनेश सिंह भोले,तरनी कुमार पासवान,गौरव दीक्षित, त्रलोकी व्यास, हाजी जरार्र खां,ओमप्रकाश आदि  उपस्थित रहे।

एडीएम सिटी को ज्ञापन, जहरीली शराब कांड की हो जांच

कानपुर। अपराध और दुर्घटनाओं की जननी शराब है। इसे पूरे देश में प्रतिबंधित कर पूर्ण शराबबंदी का कानून बनाए जाने के संबंध में कलेक्ट्रेट कार्यालय में अपर सिटी मजिस्ट्रेट के माध्यम से ज्ञापन सौंपा। सुल्तान सिंह ने कहा कि हाल ही में पंजाब प्रांत में हुई जहरीली शराब घटना से बड़ी संख्या में लोगों की मौत हुई। देश का सबसे बड़ा प्रदेश उत्तर प्रदेश में तो आए दिन इस प्रकार की घटनाओं में लोगों की जीवन हानि हो रही है।

शराबबंदी संयुक्त मोर्चा पंजाब में जहरीली 10-10 लाख रुपए का मुआवजा तथा निराश्रित परिवारों के एक व्यक्ति को नौकरी देने की मांग करती है। साथ ही निम्नलिखित 5 सूत्री मांगे पूर्ण शराबबंदी का कानून बनाए जाने की राष्ट्रीय संरक्षक संविधान के अनुच्छेद 47 के पालन हेतु पूरे देश में शराब बनाने के कल कारखाने बंद किए जाएं सरकार द्वारा लॉकडाउन के दौरान शनिवार व रविवार को भी शराब के संबंधित आदेश वापस लिए जाएं। उत्तर प्रदेश में पूर्व में डटी जहरीली शराब की घटनाओं की जांच सीबीआई एसआई टी से जांच कराकर दोषी जनों को दंडित कर मृतक आश्रितो तक राहत पहुंचाई जाए।

पंजाब में हाल ही में घटी जहरीली शराब की घटना में बनने वाले लोगों के आश्रितो को 20-20 लाख रुपए मुआवजा तथा उनके परिजनों को आजीविका हेतु नौकरी दिखाई जाए। ज्ञापन के दौरान प्रदेश महासचिव शाकिर अली उस्मानी, प्रदेश महासचिव प्रदीप त्रिपाठी सुल्ताना सिंह, सुल्तान सिंह, प्रदीप यादव केसी शर्मा अक्षय लल्लू सुभाषिनी चतुर्वेदी आदि रहे।

गंगा का जलस्तर बढ़ने से गांववालों में घबराहट, घाटों की सीढ़ियों से टकरा रही लहरे

कानपुर। शहर में गंगा का जल स्तर अब नित्य बढ़ रहा है। गंगा बैराज के सभी फाटक खोले जाने से कटरी के गांवो की तरफ जल स्तर बढ़ रहा। जिससे वहां के गामीणों में अब बेचैनी बढ़ रही है। गंगा की लहरें घाटों की सीढ़ियों से टकराने लगी लेकिन अभी खतरे के निशान से जल स्तर नीचे है। हरिद्वार व नरोरा बांध से गंगाजल छोड़े जाने से कानपुर में गंगा उफान की ओर बढ़ रही है।

घाटों से दूर रहने वाली गंगा की लहरें आजकल घाट की सीढ़ियों से टकरा रही। जिससे नमामि गंगे के तहत घाटों के सुंदरीकरण में लगी स्टील की रेलिंगे भी डूब रही। गंगा का जल स्तर बढ़ने से कानपुर में गंगा बैराज के सारे फाटक खोल दिए गए है। कटरी के गांवों में अभी बाढ़ खतरा नहीं है। बढ़ रहे गंगा जल स्तर के बावजूद गंगा कटरी के गांवों में अभी बाढ़ का खतरा नही है।प्रशाशन की टीम चौकन्ना है और निरन्तर निगरानी हो रही।

Related Articles

Back to top button
E-Paper