KANPUR NEWS: एक क्लिक में पढ़ें कानपुर की हर बड़ी खबर

कानपुर

वामपंथियों ने धरना देकर मोदी सरकार को कोसा, राष्ट्रपति के नाम सम्बोधित दिया ज्ञापन

कानपुर। वामपंथी दलों के राष्ट्रीय आवाहन पर आज 11 से एक बजे तक बड़ा चौराहा स्थित कामरेड राम आसरे पार्क में धरना दिया गया। जिसमें केंद्र सरकार की नीतियों की जमकर आलोचना की गई। वक्ताओं ने कहाकि सरकार की गलत नीतियों से मजदूर, किसान सब परेशान है। बाद में राष्ट्रपति के नाम सम्बोधित ज्ञापन वहां आए मजिस्ट्रेट को दिया गया।

ये भी पढ़ें- VIDEO: इस देश में मिला इंसानों से भी बड़ा ‘चूहा’, दहशत में आए लोग

उक्त धरने में वामपंथी दलों के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं के अतिरिक्त अन्य जनवादी दलों के नेता भी उपस्थित रहे। धरने की अध्यक्षता भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सहायक सचिव कामरेड अरविंद राज स्वरूप ने की। इस अवसर पर भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी की राष्ट्रीय पोलित ब्यूरो की सदस्य एवं पूर्व सांसद कामरेड  सुभाषिनी अली भी धरने में उपस्थित रही।

कानपुर

धरने में प्रमुख रूप से सीपीआई के जिला सचिव कामरेड राम प्रसाद कनौजिया, ओमप्रकाश आनंद ,नीरज यादव, नवाब सिंह, सीपीआईएम से विनोद पांडे ,कामरेड उमाकांत ,कामरेड ओम प्रकाश ,कामरेड गोविंद नारायण, कामरेड मोहम्मद वसी ,कामरेड राजीव निगम, सीपीआईएमएल से सचिव विजय कुमार ,राणा प्रताप, फॉरवर्ड ब्लॉक से सचिव कामरेड राम दुलारे एवं अभिनव कुशवाहा ,महिला नेता सीमा कटियार ,नीलम तिवारी ,सुधा सिंह, लोकतांत्रिक जनता दल से प्रदीप यादव ,समाजवादी कुलदीप सक्सेना कांग्रेसी के के तिवारी एवं समाजवादी पार्टी के विधायक अमिताभ बाजपेई तथा आप पार्टी के कार्यकर्ता गण भी उपस्थित रहे।इप्टा के ओमेंद्र कुमार और लेखक संघ के प्रताप साहनी भी मौजूद थे।

धरने में पूर्व सांसद सुभाषिनी अली ने कहा यह सरकार पूरी तरह से निरंकुश हो गई है ।कामरेड अरविंद राज स्वरूप ने कहा कि सरकार यह गलत बयानी कर रही है। सभा का संचालन भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी के जिला सचिव कामरेड अशोक तिवारी ने किया।


सीएसए में मानकों के विपरीत भरे गये पद, शासन ने शुरु की जांच

कानपुर । पद का फायदा उठाते हुए चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय  में भर्ती प्रक्रिया बिना किसी सूचना के कर दी गयी। भर्ती प्रक्रिया की आंच अब शासन तक पहुंच गयी है इसके लिए जिम्मेदार लोगों के बीच पत्राचार भी शुरु हो गया है।  पूर्व कुलपति शमशाद अहमद के कार्यकाल में विश्वविद्यालय में बिना मानक के सहायक प्राध्यापक, केवीके और केजीके पदों पर भर्तियां अपनों के बीच की गयी थी। इन सभी पदों पर चयनित लोगों को वेतन भी दिया जा रहा है।

ये भी पढ़ें- बॉलीवुड के दिग्गज सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम का 74 वर्ष की उम्र में निधन

इन भर्तियों को लेकर तत्कालीन अर्थ नियंत्रक धीरेन्द्र तिवारी ने शासन को पत्राचार किया था। तिवारी के पत्राचार को वित्त मंत्री सुरेश खन्ना और कृषि शिक्षा मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने संज्ञान में लिया और अपर सचिव कृषि शिक्षा देवेन्द्र चतुर्वेदी ने विश्वविद्यालय को पत्र लिखा। जिसमें साफ लिखा गया कि शोध सहायकों को बिना शासन की अनुमति के इन पदों पर नई नियुक्ति नही की जा सकती है।

इसके बावजूद विश्वविद्यालय प्रशासन प्रतिमाह शासन को लाखों की चपत बराबर लगाया जा रहा है। तिवारी ने अपने पत्र में लिखा था कि शासन के रोक लगाने के बावजूद तत्कालीन कुलपति शमशाद अहमद ने गलत रास्तों में चलकर विश्वविद्यालय अधिकारियों से साठ-गांठ कर, स्पष्ट शासनादेश के बाद भी 1981 के बाद कई शोध सहायको को कार्यों पर अस्थाई तौर पर रखा।

इससे पूर्व भी विज्ञान विशेषज्ञ तथा प्रोग्राम कॉर्डिनेटर भर्ती किए गए, जिनको बाद में बिना प्रबंध मंडल व शासन की मंजूरी के मुख्यालय में बुला शिक्षकों की भांति एजीपी व स्केल दिए गए और प्रोग्राम कॉर्डिनेटर को सह प्राध्यापक और केवीके पर चयनित विषय वस्तु विशेषज्ञ को सहायक प्राध्यापक के बराबर का स्केल दिया जाने लगा, जबकि केवीके के लिए वेतन और प्रोमोशन का नियम यूजीसी वेतमान देय नहीं है।

वहीं कृषि मंत्री, अपर सचिव कृषि शिक्षा तथा कमिश्नर के पत्रों के बावजूद वर्तमान कुलपति उन पत्रों पर कोई कार्रवाई न कर अपने को सबके ऊपर मानते हुए अनियमित तरीके से कार्य जारी रखे हुए हैं।


अभी कुलपति नीलिमा ही कराएगी कानपुर विश्वविद्यालय की काउन्सलिंग

कानपुर। कानपुर विश्वविद्यालय में इस सत्र की प्रवेश काउन्सलिंग वर्तमान कुलपति नीलिमा गुप्ता के कार्यकाल में ही सम्प‍न्न होगी। उनके नवनियुक्ति और नए कुलपति का पदभार ग्रहण करना अभी टला माना जा रहा है। 19 फरवरी 2018 में कानपुर विश्वविद्यालय की कमान सम्भालने आयी कुलपति नीलिमा गुप्ता की नियुक्ति तिलकामांझी विश्वविद्यालय कुलपति के लिए हो गयी थी।

उनके स्थान पर राजर्षि टण्डन मुक्त  विश्वविद्यालय के कुलपति के एन सिंह की नियुक्ति शासन स्‍तर पर की गयी थी। दोनों के नियुक्ति और ज्वाइनिंग को लेकर उहापोह की स्थिति बनी रही। उनकी नवनियुक्ति के बीच की कानपुर विश्व्विद्यालय की प्रवेश परीक्षाओं के परिणाम भी घोषित कर दिए गए थे। अब छात्रों की काउन्सलिंग की प्रक्रिया किसके कार्यकाल में होगी और ये तय नही हो पा रहा था।

कानपुर विश्वविद्यालय में चल रही कुलपतियों के बीच की स्थिति को दैनिक विश्ववार्ता ने बखूबी उठाया भी था। कानपुर विश्वुविद्यालय के नौ पाठयक्रमों की प्रवेश परीक्षा के लिए लगभग साढे बारह हजार छात्रों का चयन किया गया जिनकी काउन्सलिंग होनी है। सबसे बडी समस्या इसी बात की सामने आ रही थी जब छात्रों की काउन्सलिंग किसके नेतृत्व में होगी। चूंकि विश्वविद्यालय की ओर से छात्रों की काउन्स‍लिंग प्रक्रिया को अमली जामा जल्दं ही पहनाया जाना है तो उसके लिए समय का इंतजार नही किया जा सकता है।


शनिवार को होने वाली पर्यावरण विज्ञान की परीक्षा टली

कानपुर। कानपुर विश्वविद्यालय की स्नारतक वर्ष की पर्यावरण विज्ञान विषय की परीक्षा अपरिहार्य कारणों से स्थगित कर दी गयी है।अब ये परीक्षा 4 अक्टूबर को निर्धारित पालियों में ही आयोजित करायी जाएगी। इसके लिए परीक्षा केन्द्रो में भी किसी तरह का बदलाव नही किया गया है। ये जानकारी कानपुर विश्वविद्यालय के परीक्षा नियन्त्रक व कुलसचिव अनिल कुमार यादव ने दी।उन्होंने बताया कि शनिवार 26 सितम्बर को बीए,बीकॉम व बीएससी के अंतिम वर्ष के लिए पर्यावरण विषय की परीक्षा आयोजित होनी थी जो अपरिहार्य कारणों से टाल दी गयी है अब ये परीक्षा 4 अक्टूबर को उसी समय पर आयोजित की जाएगी।


नियम विरुद्ध निपटाई गई प्रोत्साहन समिति की बैठक,खेल मीटिंग में नही बुलाए गए कई संघ

कानपुर। जिला खेल प्रोत्साहन समिति के भंग किए जाने के बाद भी उन्हीं खेल संघों को समिति की बैठक में बुलाकर योजनाओं को अमल में लाए जाने की मन्त्रणा कोरी औपचारिकता ही दिखायी दे रही है। बीते एक सप्ताह पूर्व नगर की खेल इकाई की मुखिया के नेतृत्व में खेलों के प्रोत्साहन को आहूत की गई एक बैठक में जहा 50 से अधिक लोग एक ही कमरे में मन्त्रणा के लिए बैठे वो भी कोविड प्रोटोकाल के नियमों को एक तरीके से उल्लघंन ही माना जाएगा।

वहीं उस मीटिंग में कइ्र खेल संघों को बुलाना भी उचित नही समझा गया था।उन खेल संघों की खेल विभाग के प्रति नाराजगी भी साफ तौर पर देखी जा रही है। गौरतलब है कि  बीते मार्च से नगर में ही नही प्रदेश व देश में खेल गतिविधियां पूरी तरह से बन्द थी तो खेल संघ भी अपनी गतिविधियों को विराम दिए  हुए थे। बीते जून महीने में वर्तमान उपनिदेशक ने नगर की खेल इकाई की कमान संभालते ही जिलाखेल प्रोत्साजन स‍मिति को पूरी तरह से भंग कर दिया था।

ग्रीनपार्क स्थित खेल विभाग के कार्यालय में जब जिला प्रशासन ने खेलों की गतिविधियां जारी होने की घोषणा करने के बाद बैठक बुलवाई तो वह बैठक बिना एजेन्डा तय किए ही आनन-फानन में तय कर दी गयी जिसमें भी कानपुर क्रिकेट संघ व योगा एसोसिएशन समेत कई खेल संगठनों को आमन्त्रित ही नही किया गया। बैठक में बस मौखिक रूप से ही चर्चा की गयी और खेलों के विकास की बातो पर जोर दिया गया।

हद तो यहा तक हो गयी थी जब सरकारी कार्यालय में आयोजित बैठक में मौजूद व्यक्तियों का परिचय भी कागजों पर अंकित नही  किया गया था। बतातें चलें कि सरकारी व गैर सरकारी या फिर निजी कार्यालयों में आयोजित होने वाली बैठकों में बिना एजेन्डा तय किए गए किसी भी विषय पर चर्चा केवल औपचारिकता ही रह जाती है।


करंट की चपेट में आने से मजदूर की मौत, मचा हड़कंप

कानपुर। घाटमपुर थाना के बीरपुर में एक निर्माणाधीन इमारत में करंट लगने से एक मजदूर की मौत हो गयी तो परिजनों ने हाइवे में लाश रख बवाल कर दिया। मोके पर पहुचे एसडीएम की गाड़ी पर हल्ला बोला तो पुलिस ने सबको लाठी पटककर खदेड़ दिया।

गीता नगर में महिला के गहने बदमाश ले गए

काकादेव के गितांगर क्षेत्र में बदमाश एक महिला घर ने घुसकर नगदी व जेवर ले गए। काकादेव थाना प्रभारी ने अवगत कराया गया कि गीता नगर, काकादेव कानपुर नगर स्थित मकान जो कि रिचा मिश्रा विधवा महिला है, जिनके पति स्वर्गीय राजेश मिश्रा की वर्ष 2018 में सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी।

इसके बाद ससुराली जनों से सहयोग न मिलने व पीड़ित किए जाने के बाद अपने कमरे में ताला बन्द करके अपने पिता के साथ काकादेव क्षेत्र में रह रही है। रिचा मिश्रा द्वारा वापस आकर अपने कमरे का ताला खोलकर देखा गया तो कमरे के अंदर रखे जेवर व सामान नहीं थे। रिचा मिश्रा की सूचना पर मौके पर चौकी इंचार्ज सर्वोदय नगर गए थे, पीड़ित रिचा मिश्रा द्वारा तहरीर दी गई है। जिसपर विधिक कार्यवाही की जा रही हैं प्रकरण में लगाए गए लूट व अन्य आरोप निराधार और असत्य है।


युवती सहित तीन पकड़े,साढ़े दस किलो गांजा बरामद

कानपुर

कानपुर। बर्रा थाना क्षेत्र के गुजैनी इलाके में शुक्रवार को पुलिस ने पीला पुल के पास से दो युवक रामचन्द्र,धर्मेंद्र के साथ ही एक युवती को गिरफ्तार किया हैं। तो वही राजेश उर्फ शिवमुनि मौके से भाग गया। चेकिंग के दौरान पुलिस ने तीनों के पास से साढ़े दस किलो गांजा बरामद किया वही आरोपियों के पास से साढ़े बावन हजार रुपये भी बरामद किए। पुलिस ने बताया कि मुख्य फरार आरोपी आरोपी राजेश गांजे को पहुचाने का काम करता हैं तो वही तीनो अलग अलग इलाके में गांजे को सप्लाई करने का काम करते थे।


पीएम मोदी का उदबोधन सुन गदगद हुए कार्यकर्ता,882 बूथों पर जयंती मना लिया संकल्प

कानपुर। भारतीय जनता पार्टी कानपुर महानगर उतरने आज एकात्म मानववाद एवं अंत्योदय के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती को प्रदेश नेतृत्व के निर्देशानुसार जिले के सभी बूथों पर चित्र लगा एवं माल्यार्पण कर मनाया गया ।

प्रातः 11:00 पार्टी कार्यालय नवीन मार्केट के नीचे शिक्षक पार्क में एक बड़े चित्र को लगाकर देश के प्रधानमंत्री म नरेंद्र मोदी  के द्वारा दीनदयाल जी की जयंती पर बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं को दिए गए उद्बोधन को सुन पंडित दीनदयाल उपाध्याय को माल्यार्पण कर उनको याद किया ।

जिलाध्यक्ष सुनील बजाज ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि पंडित दीनदयाल जी ने अपना सारा जीवन समाज के सबसे अंतिम पंक्ति पर खड़े व्यक्तियों को समर्पित किया उनका अंत्योदय पर कार्य करने का उन्हें अवसर जरूर ना मिला हो लेकिन आज जिस तरीके से देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समाज के सभी निर्मल वर्गों के उत्थान के लिए जिस तरह से काम कर रहे हैं यह निश्चित तौर पर पंडित जी के देखे गए सपनों को साकार कर रहा है। कार्यक्रम में जिला महामंत्री वीरेश त्रिपाठी अवधेश सोनकर राजू शर्मा रिचा सक्सैना दीपक चौहान सत्यम गुप्ता सचिन शुक्ला रोहित साहू परमानंद शुक्ला सत्यम शुक्ला आदि थे ।

पंडित दीनदयाल जयंती की जिला प्रभारी जिला उपाध्यक्ष रंजीता पाठक ने बताया कि आज भाजपा कानपुर उत्तर जिले में 882 बूथों पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती मना कर पंडित जी के दिखाए मार्गो पर चलने का संकल्प लिया ।

भारतीय जनता पार्टी कानपुर बुंदेलखंड क्षेत्र के अध्यक्ष मानवेंद्र सिंह कानपुर की महापौर श्रीमती प्रमिला पांडे प्रदेश सरकार में मंत्री श्रीमती नीलिमा कटियार प्रदेश उपाध्यक्ष सलिल विश्नोई श्रीमती कमलावती सिंह विधान परिषद सदस्य अरुण पाठक सुरेश अवस्थी आदि नेताओं ने अपने-अपने बूथों पर पंडित दीनदयाल जी के चित्र पर माल्यार्पण कर उनके विचारों को आम जनमानस को अवगत कराया ।

वही जिला उपाध्यक्ष प्रमोद त्रिपाठी जन्मेजय सिंह अनुपम मिश्रा सत्येंद्र पांडे आशा पाल आकाश शुक्ला गौरव पांडे श्यामू तिवारी राजेश सेंगर रमाशंकर अग्रहरी अनिल दीक्षित मंडल अध्यक्ष शुभम दीक्षित संध्या मिश्रा अखंड प्रताप सिंह सुमित सरोज चंद्रमणि चौबे नीरज गुप्ता अरविंद सिंह राजेश तिवारी नवाब सिंह धीरज साहू देवेंद्र बोरा बबिता निगम वैभव खंडेलवाल चंद्रकांत द्विवेदी आदि जिला पदाधिकारियों ने 3-3 बूथों पर पहुंच कर पंडित जी के एकात्म मानववाद दर्शन को जन जन तक पहुंचाने का कार्य किया।

 

Related Articles

Back to top button
E-Paper