महाशिवरात्रि महोत्सव में कैलाश खेर के सुरों पर थिरकेंगे काशीवासी, भव्य कार्यक्रम का होगा आयोजन

वाराणसी। बाबा विश्वनाथ की नगरी वाराणसी में इस बार महाशिवरात्रि पर्व पर राजघाट स्थित गंगातट पर छह दिवसीय भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। 11 से 16 मार्च तक होने वाले महाशिवरात्रि महोत्सव को भव्य बनाने के लिए प्रदेश के पर्यटन, संस्कृति, धर्मार्थ कार्य एवं प्रोटोकॉल राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. नीलकंठ तिवारी ने मंगलवार को अधिकारियों के साथ बैठक की।

पर्यटन कार्यालय के सभागार में पर्यटन विभाग के अफसरों को निर्देशित करते हुए राज्यमंत्री ने कहा कि महाशिवरात्रि महोत्सव में पूरी काशी शिवमय हो जाती है। ऐसे में बनारस की संस्कृति एवं यहां की समृद्ध सांस्कृतिक परंपरा के अनुरूप महोत्सव में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन होना चाहिए। सांस्कृतिक कार्यक्रम में स्थानीय कलाकारों के साथ-साथ बनारस घराने के कलाकारों को प्राथमिकता दिया जाय।

राज्यमंत्री ने राजघाट सहित कार्यक्रम स्थल तक आने वाले मुख्य मार्ग की व्यापक स्तर पर साफ सफाई के साथ प्रकाश की व्यवस्था, वाहनों की पार्किंग के लिए समुचित स्थान का व्यवस्था बनाने को कहा।

महाशिवरात्रि महोत्सव पर्व के पहले दिन 11 मार्च को पदमभूषण पंडित राजन-साजन मिश्र का शास्त्रीय गायन, हरिप्रसाद का बांसुरी वादन, माया कुलश्रेष्ठ का कत्थक तथा अंजली पाठक का गायन होगा। दूसरे दिन 12 मार्च को विराट कवि सम्मेलन जिसके आकर्षण सुनील जोगी व अन्य कवि होंगे। इसके अलावा नीरज मिश्र का सितार वादन, शुभम केसरी का कत्थक तथा राकेश तिवारी का गायन कार्यक्रम होगा।

13 मार्च को सांस्कृतिक संध्या का मुख्य आकर्षण कैलाश खेर का गायन होगा। इसके अलावा इसी दिन अमलेश शुक्ल का गायन, अतुल शंकर का बांसुरी वादन, मधुमिता भट्टाचार्य का गायन होगा। इसी क्रम में 14 मार्च को राजेंद्र प्रसन्ना का बांसुरी वादन, शिवानी शुक्ला का कत्थक, सुनिधि पाठक का गायन, गणेश पाठक का गायन, जय पांडेय का गायन तथा देवाशीष डे का शास्त्रीय गायन होगा।

15 मार्च को पद्मश्री सोमा घोष का शास्त्रीय गायन के अलावा सुनंदा शर्मा का गायन, शुभ महाराज का तबला वादक, सौरव-गौरव मिश्र का कत्थक, सुजीत तिवारी का गायन तथा माता प्रसाद, शिवशंकर का कत्थक होगा। महाशिवरात्रि महोत्सव पर्व के सांस्कृतिक कार्यक्रम की अंतिम निशा 16 मार्च को मुख्य आकर्षण पदमश्री मालिनी अवस्थी का लोक गायन होगा। इसके साथ इसी दिन राहुल-रोहित मिश्र का शास्त्रीय गायन, सुखदेव मिश्र का वादन, विशाल कृष्णा का कत्थक तथा मन्नालाल यादव का बिरहा गायन होगा।

“फैम टूअर” का भी आयोजन

11 से 13 मार्च तक वाराणसी में “फैम टूअर” का आयोजन किया जायेगा। इस कार्यक्रम में देश के विभिन्न प्रदेशों एवं स्थलों से टूर ऑपरेटर काशी आयेगे। यहां पर उन्हें बनारस में हुए विकास कार्यों एवं यहां के आकर्षण को दिखलाया जाएगा। ताकि वे अपने यहां के पर्यटकों को इससे अवगत करा सके, जिससे अधिक से अधिक पर्यटक बनारस आये।

“फैम टूअर” कार्यक्रम के अंतर्गत आने वाले प्रमुख टूर ऑपरेटरों को कैथी स्थित मारकंडेय महादेव, शूलटंकेश्वर, रामेश्वरम, काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर, मानमहल घाट सहित गंगा के घाट, बड़ालालपुर स्थित दीनदयाल उपाध्याय हस्तकला संकुल सहित सारनाथ के लाइट एंड साउंड शो को दिखलाया जाएगा। बैठक में संयुक्त निदेशक पर्यटन अविनाश मिश्रा, पर्यटन अधिकारी कीर्तिमान श्रीवास्तव सहित अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

Related Articles

Back to top button
E-Paper