घर में मंदिर स्थापित करते समय रखें इन बातों का विशेष ध्यान

घर में मंदिर

घर में मंदिर होता है तो सुख-शांति आती है। साथ ही लोगों के मन में भगवान के लिए प्यार औऱ विश्वास बना होता है और घर की ऊर्जा भी अच्छी रहती है। घर में मंदिर बहुत पवित्र स्थान होता है।

घर में मंदिर बनाते समय और उसकी सजावट रंग आदि हर बात का ध्यान रखना आवश्यक होता है। यदि आपने अपने घर में गलत स्थान पर मंदिर बनाया है तो ऐसे में आपको इसका फल नहीं मिलेगा। इसलिए आज हम बताएंगे मंदिर से जुडी कुछ विशेष बातें जिनका आपको ध्यान रखना होगा।

ये भी पढ़ें- सेल्फी ले रही डॉक्टर की पत्नी का बिगड़ा बैलेंस, हलाली डैम के पानी में गिरी

घर में मंदिर बनाते समय दिशा का ध्यान रखना आवश्यक होता है। तभी पूजा का सही फल प्राप्त होता है। घर का मंदिर उत्तर-पूर्व दिशा यानि ईशान कोण में बनाना चाहिए। ये स्थान मंदिर बनाने के लिए उपयुक्त माना गया है। केवल पूजा घर ही नहीं इस बात का ध्यान भी रखना चाहिए कि जब आप पूजा कर रहे हो तो आपका मुख पूर्व दिशा की ओर हो।

मंदिर का स्थान बार-बार नहीं बदलना चाहिए। अगर आप किसी देवी-देवता की पूजा विशेष रुप से करते हैं तो उनकी प्रतिमा आसन बिछाकर चौकी पर स्थापित करनी चाहिए। बाकि देवी-देवताओं की प्रतिमा को आप सम्मान के साथ मंदिर में रख सकते हैं। मंदिर में रंग करवाते समय ध्यान रखें की ज्यादा गहरे रंग का उपयोग न करें। मंदिर में रंगवाने के लिए पीला रंग उचित रहता है। नियमित रुप से मंदिर की साफ-सफाई करनी चाहिए।

सनातन धर्म में पूजा करने के कुछ नियम और समय बताया गया है। इसलिए पूजा करने के समय का भी ध्यान रखना चाहिए। संध्या के समय मंदिर में दीपक जरुर जलाएं। सुबह के समय जल्दी उठकर पूजा करें। क्योंकि उस समय शांति होती है और हम अपना मन एकाग्र होकर पूजा में लगा पाते हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper