बच्चों की हत्या कर पीता खून, ‘खूनी पिशाच’ को भीड़ ने पीट-पीट कर उतारा मौत के घाट

रहने वाला एक 20 वर्षीय सीरियल किलर पर 10 बच्चों की हत्या का इलज़ाम था। उसने ये सभी हत्याएं कबूल भी की थी। जिसके बाद इसे पुलिस ने गिरफ्तार किया था लेकिन कुछ दिन पहले वह पुलिस कस्टडी से फरार हो गया था। जिसके बाद यह पता चला कि उस सीरियल किलर को भीड़ ने जमकर पीटा जिससे उसकी मौत हो गई।

बच्चों की हत्या

हत्या करने से पहले पीता था खून

दरअसल पूरा मामला केन्या के नैरोबी का है। जहाँ 20 साल के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया था जिसका नाम मास्टेन विलिमो वंजाला था। जब पुलिस जाँच पड़ताल की तो पता चला की उसने एक- दो नहीं बल्कि 10 बच्चों की बेरहमी से हत्या की थी। वह कई बार बच्चों की हत्या करने से पहले उनका खून पीता था। इसलिए वहां के लोग उसे “खून का प्यासा पिशाच’ कहते थें। इसको लेकर उसने खुद कई चौकाने वाले खुलासे किए थे। पुलिस से उसने बताया कि 15 की उम्र में उसने पहली हत्या की थी। और इस 5 साल में उसने 10 बच्चों को मौत के घात उतर दिया।

सौतेली माँ ने छः साल के मासूम को उतारा मौत के घाट, आठ महीने तक किया प्रताड़ित

जुलाई में उसे 2 बच्चों के लापता होने पर गिरफ्तार किया गया था, लेकिन अधिकारीयों द्वारा बताया गया की उसने 10 बच्चों की हत्या को कबूला है। हालाकिं हत्या के मामले में कोर्ट में पेश होने से कुछ घंटे पहले वह भाग गया। वह एक गांव में जाकर चिप गया लेकिन वहां के लोगों को इसका पता चल गया। लोगों ने उसे खोज निकला और पीटना शुरू कर दिया। जिससे उसने दम तोड़ दिया। जब पुलिस वहां पहुंचीं तो पुलिस को उसकी खून से लथपथ लाश मिली।

पुलिस ने बताया मास्टेन विलिमो वंजाला बच्चों की हत्या कर उनका खून पीता था। उन्होंने ने बताया की वंजाला के शिकार अधिकतर 12 से 13 साल के उम्र के बच्चें होते हैं। वह कभी बच्चों को नशीला पदार्थ खिलाकर तो कभी चाकू मारकर उनकी हत्या करता था।

Related Articles

Back to top button
E-Paper