मुजफ्फरनगर में किसान महापंचायत खत्‍म, नरेश टिकैत का ऐलान- जारी रहेगा आंदोलन

मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में चल रही किसान महापंचायत खत्म हो गई है। महापंचायत में भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत कहा है कि किसानों का आंदोलन जारी रहेगा और जिसे ग़ाज़ीपुर बॉर्डर जाना है, वह कल जा सकता है।

किसान महापंचायत

नरेश टिकैत आज यहां राजकीय इंटर कॉलेज मैदान पर आयोजित किसान महापंचायत को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि किसानों का आन्दोलन की मांगे पूरी होने तह जारी रहेगा। दिल्ली की घटना से किसान के सम्मान को ठेस पहुंची है। उन्होंने कहा कि समय समय पर सभी लोगों ने आपसी मतभेद भुलाकर एकजुटता का परिचय दिया है। जयन्त चौधरी के साथ हुए हाथरस व 2002 की विशाल जनसभा आदि इसके उदाहरण है।

किसान नेता ने कहा कि हमें भाजपा विधायक नंदकिशोर के व्यवहार का बुरा नहीं मानना चाहिए। आज उन्ही की वजह इस आंदोलन को संजीवनी मिली है।

भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत के आह्वान पर आयोजित इस किसान महापंचायत में पूरा विपक्ष एकजुट होकर शामिल हुआ। विपक्ष के सभी बड़े नेता अपने समर्थकों के साथ महापंचायत में  पहुंचे।

राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) उपाध्यक्ष एवं पूर्व सांसद जयन्त चौधरी ने किसान महापंचायत को सम्बोधित करते हुए कहा कि यह संकट की घड़ी है और इस घड़ी में हम सबको एकजुटता का परिचय देना होगा। उन्होंने कहा कि यहां मौजूद आप सभी बुजुर्ग अच्छी तरह से जानते है कि चौ. चरण सिंह गरीब व किसानों के नेता थे तथा वो हमेशा गरीब किसान के हितों की बात करते थे। उन्होंने कहा कि यदि किसान मायूस होगा तो देश तबाह हो जायेगा।

Big Breaking : दिल्ली में हुआ बड़ा धमाका, कई कारों के उड़े परखच्चे

रालोद नेता जयन्त चौधरी ने कहा कि आप सबको मालूम है कि जब वे हाथरस प्रकरण पर पीड़ित पक्ष से मिलने व उसे न्याय दिलाने की मंशा से वहां पहुंचे तो उन पर लाठियां फटकारी गयी। यह हम सबके अस्तित्व की लड़ाई है। यह लड़ाई अभी लम्बी लड़ी जानी है।

रालोद उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशना साधते हुए कहा कि इस पूरे प्रकरण में  वह चुप्पी साधे हुए है। उन्होंने कहा कि किसान भगवान का रूप है मोदी जी को किसानों की समस्याओं के प्रति गम्भीर होना चाहिए। वहीं दूसरी ओर उन्होंने कहा कि एक ओर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  लव जिहाद व मुगलों की बात तो करते है, लेकिन आज तक गन्ने का भाव सरकार द्वारा तय नहीं किया गया है।

जयन्त चौधरी ने कहा कि अब चुप रहने से काम नहीं चलेगा। किसान विरोधी सरकार के खिलाफ एकजुट होना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि गांव में आने पर भाजपा नेताओं का बहिष्कार होना चाहिए तथा मीठी बात करने वालो से बचना चाहिए ,ये लोग मीठी-मीठी बाते तो करते हैं ,लेकिन किसान के साथ नहीं है वह देश का गद्दार है। 

भारतीय किसान यूनियन की महापंचायत में पहुंचे आम आदमी पार्टी से राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने भाजपा सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा किसान कभी लालकिले व तिरंगे का अपमान नहीं कर सकता है। उन्होंने कहा कि मैं पूर्वी उत्तर प्रदेश का बेटा हूं। दिल्ली और पूरब का संदेश लेकर आया हूं। उन्होंने कहा हम तीन कृषि काले कानूनों को वापस कराकर रहेंगे।

संजय सिंह ने कहा अगर राकेश टिकैत की गिरफ्तारी हुई तो हम भी जेल भर देंगे। उन्होंने कहा कि राज्यसभा में अगर मैंने माइक तोड़ा तो तुमने मुझे निलंबित कर दिया। सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि तुम किसानों की हड्डियां तोड़ रहे हो, किसान तुम्हें भी निलंबित करके रहेंगे।

किसान महापंचायत में  रालोद नेता जयंत चौधरी के अलावा पूर्व राज्यसभा सांसद हरेंद्र मलिक, पूर्व विधायक अनिल कुमार, पूर्व विधायक पंकज मलिक, सपा जिलाध्यक्ष प्रमोद त्यागी, कांग्रेस जिलाध्यक्ष सुबोध शर्मा, रालोद जिलाध्यक्ष अजित राठी, पूर्व विधायक इमरान मसूद, विधायक नाहिद हसन, पूर्व विधायक नवाजिश आलम, पूर्व विधायक राजपाल बालियान, सोमपाल प्रधान, अभिषेक चौधरी, राकेश शर्मा, गौरव स्वरूप, निधिषराज गर्ग, भाकियू मंडल अध्यक्ष राजू अहलावत, पूर्व रालोद विधायक राजपाल बालियान, पूर्व मंत्री धर्मवीर सिह बालियान, सपा नेता चन्दन चौहान, पूर्व विधायक एवं सपा नेता अनिल कुमार, संजय राठी, पूर्व मंत्री महेश बंसल, श्यामपाल चेयरमैन, सपा नेता राकेश शर्मा आदि मौजूद रहे।

गौरतलब है कि गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में ट्रैक्टर परेड़ के दौरान हुई घटना के बाद अन्य नेताओं के साथ भाकियू प्रवक्ता राकेश टिकैत के खिलाफ भी दिल्ली पुलिस द्वारा दर्ज किए गये मामले के बाद कल शाम संवाददाताओं के बीच राकेश टिकैत के भावुक होने के बाद भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत के आह्वान पर आज यहां यह किसान पंचायत बुलाई गई थी। किसान आन्दोलन के चलते पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सभी जिलो में पुलिस प्रशासन अलर्ट है। महापंचायत के मद्देनजर पुलिस ने पुख्ता इंतजाम थे।

Related Articles

Back to top button
E-Paper