जानिए कपल्स के बीच क्यों कम हो जाता है रोमांस, ये है बड़ी वजह

आजकल ज्यादातर कपल्स व्यस्त हाईटेक लाइफस्टाइल जीते हैं। दोनों ही सुबह से ले कर रात तक काम करते हैं। ऐसे में उन के पास अपने साथी के लिए टाइम नहीं होता। लंबे समय तक साथ रहने वाले कपल्स एक समय के बाद रिश्ते में पहले जैसा उत्साह नहीं महसूस करते हैं। खासतौर से सेक्स को लेकर पैशन बहुत कम हो जाता है।

ये भी पढ़ें- यूपी में प्रशासनिक फेरबदल, योगी सरकार ने 10 और IPS अफसरों के किए तबादले

सैकड़ों लोगों पर की गई एक रिसर्च में कपल्स से पूछा गया कि उन्हें क्यों महसूस होता है कि उनके रोमांस में पहले वाला जोश नहीं रहा और उनकी सेक्स लाइफ अच्छी ना होने के पीछे क्या वजह है।

सामने आईं कई वजहें

सामने आईं कई वजहें

ये स्टडी इवोल्यूशनरी साइकोलॉजी पत्रिका में प्रकाशित हुई है। इस स्टडी में वॉलंटियर्स से कई तरह के सवाल पूछे गए थे। इसमें से मनोवैज्ञानिकों को कुल 78 ऐसी वजहें पता चलीं जो कपल्स के यौन उत्साह को कम कर देती हैं। इनमें से सबसे पहली जो वजह है वो है उत्साह का खत्म हो जाना।

समय की कमी

समय की कमी भी वजह

दूसरी जो सबसे बड़ी वजह समय की कमी पाई गई। इसके अलावा कई लोगों की शिकायत थी कि उनका पार्टनर हर समय उन पर नजर रखने की कोशिश करता है जिसकी वजह से वो एक तरह का दबाव महसूस करते हैं।

पार्टनर की खराब आदत से परेशान

पार्टनर की खराब आदत से परेशान

स्टडी में कुछ लोग हर समय पार्टनर के साथ रहने वाले दोस्तों और रिश्तेदारों से भी परेशान पाए गए। पार्टनर के शराब पीने और जुआ खेलने जैसी आदतें भी सेक्स लाइफ को खराब करने की वजहें बताई गई हैं।

बर्ताव का भी पड़ता है असर

धोखा मिलने से सेक्स पर असर बहुत कम

देर तक काम की वजह बताने वाले लोगों में पार्टनर के साथ सेक्स को लेकर तालमेल की कमी या असहमति जैसी बातें ज्यादा सामने आईं। इसके अलावा यौन इच्छा खत्म होने के पीछे पार्टनर का चरित्र और उसका बुरा बर्ताव जैसी वजहें भी सामने आईं हैं।

धोखा मिलने से सेक्स पर असर बहुत कम

रिश्ते में अंतरंगता है जरूरी

इस रिसर्च में सबसे हैरत की बात ये निकलकर आई कि धोखा मिलने की वजह से सेक्स ना करने की वजह सबसे नीचे पाई गई। यानी रिसर्च में ऐसे कपल्स की संख्या बहुत कम थी जिन्होंने पार्टनर से धोखा मिलने की वजह से सेक्स करना बंद कर दिया था।

ये भी पढ़ें- अमेरिका-चीन विवाद में टिकटॉक पर माइक्रोसॉफ्ट की जगह ओरेकल की उम्मीदें बढ़ीं

Related Articles

Back to top button
E-Paper