घूसखोरी के आरोप में कोतवाल व दीवान निलंबित, एएसपी की जांच रिपोर्ट पर एसपी ने की कार्रवाई

गोंडा। रिश्वतखोरी को लेकर जिले के पुलिस अधीक्षक ने कड़ा एक्शन लिया है। पेंड काटने के नाम पर घूस मांगना करनैलगंज कोतवाल व दीवान को भारी पड़ गया है। घूसखोरी का आडियो वायरल होने के बाद पुलिस अधीक्षक ने कोतवाल राजनाथ सिंह व दीवान सौकत अली को शनिवार को निलंबित कर दिया। एसपी की कार्रवाई से पुलिस महकमें में हड़कंप मच गया है। कार्रवाई अपर पुलिस अधीक्षक की जांच रिपोर्ट के बाद की गई है।

घूसखोरी का यह मामला करनैलगंज कोतवाली का है। दो दिन पहले कोतवाली मे तैनात हेड मोहर्रिर सौकत अली का एक आडियो वायरल हुआ था जिसमें वह किसी अबुल नाम के व्यक्ति से पेंड काटने के नाम पर घूस की मांग कर रहे हैं। आडियो में वह यह भी कहते सुनाई देते हैं कि कोतवाल साहब नाराज हैं। उन्होने किसी तरह मामले को मैनेज कर रखा है। इस पर अबुल नाम के सख्श ने कहा कि वह कोतवाल को पांच हजार रुपये दे चुका है। लेकिन दीवान के रहते काम नहीं बनने वाला। वह उससे मिलने की बात करता है।

पिछले दो दिन से यह आडियो सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ था। वहीं पुलिस अधीक्षक ने इस आडियो की जांच अपर पुलिस अधीक्षक महेंद्र कुमार को सौंपी थी। एएसपी की जांच में आडियो सही पाया गया। जांच में कोतवाल की संलिप्तता भी पाई गई। अपर पुलिस अधीक्षक ने शुक्रवार को जांच रिपोर्ट एसपी को सौंप दी थी। एएसपी की जांच रिपोर्ट पर कड़ा एक्शन लेते हुए पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार पांडेय ने करनैलगंज कोतवाल राजनाथ सिंह व दीवान सौकत अली को शनिवार को निलंबित कर दिया है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि अनुशासनहीनता व रिश्वतखोरी कतई बर्दाश्त नहीं की जायेगी।

वायरल आडियो का बहाना, भारी पड़ा एएसपी से टकराना

निलंबित किए गए कोतवाल राजनाथ सिंह को अपर पुलिस अधीक्षक से चल रही तनातनी आखिरकार भारी पड़ गई। वायरल आडियो में अपर पुलिस अधीक्षक ने कोतवाल को भी दोषी माना और उनके खिलाफ कार्रवाई की रिपोर्ट एसपी को भेजी। इसी रिपोर्ट पर कोतवाल को निलंबन झेलना पड़ा। कोतवाल राजनाथ सिंह का कार्यशैली से अपर पुलिस अधीक्षक पिछले दो महीने से नाराज चल रहे थे। मारपीट के एक मामले मे कार्रवाई के लेकर दोनो के बीच तनातनी चल रही थी। एएसपी ने कोतवाल के खिलाफ कार्रवाई के लिए तत्कालीन पुलिस अधीक्षक राजकरन नैय्यर को रिपोर्ट भी भेजी थी लेकिन तब एएसपी की बात नहीं सुन गई। उल्टे एसपी राजकरन नैय्यर ने एएसपी के खिलाफ शासन को रिपोर्ट भेज दी थी।

इस घटना के बाद से ही अपर पुलिस अधीक्षक व कोतवाल के बीच रार चल रही थी कि रिश्वतखोरी का आडियो सामने आ गया। एसपी ने इसकी जांच अपर पुलिस अधीक्षक को सौंपी तो एक बार फिर से यह रार सतह पर आ गई। अपर पुलिस अधीक्षक ने आडियो मामले में दीवान के साथ कोतवाल को भी दोषी माना और उनके निलंबन की संस्तुति कर दी। इसी रिपोर्ट पर शनिवार को कोतवाल राजनाथ सिंह व दीवान सौकत अली निलंबित कर दिए गए।

Related Articles

Back to top button
E-Paper