Lakhimpur Kheri: लखीमपुर पहुंचकर योगी सरकार के कानून मंत्री बृजेश पाठक ने बांटा पीडि़त परिवारों का दर्द

अजय दयाल(विश्ववार्ता )लखनऊ। कोरोना काल में अपनी ही सरकार की चिकित्सा व्यवस्था की बेरूखी के खिलाफ आवाज बुलंद कर संवेदनशीलता की मिसाल बने योगी सरकार के कानून मंत्री बृजेश पाठक लखीमपुर(Lakhimpur Kheri) के मृतकों के पीडि़त परिवारों के बीच आज उनका दुख बांटने पहुंचे हैं।

Lakhimpur Kheri

बुणवार की सुबह कानून मंत्री बृजेश पाठक किसान बिल के विरोध में हुए संघर्ष में मारे गए चालक हरिओम मिश्रा के घर पहुंचे। यहां उन्होंने परिजनों को ढांढस बंधाया। उन्होंने पीडि़त परिवार को हर संभव मदद दिलाने का आश्वासन दिया। कानून मंत्री आज थाना लगभग सवा 10 बजे फरधान क्षेत्र के गांव परसेहरा बुजुर्ग निवासी मृतक हरिओम मिश्रा के घर पहुंचे। उसके बीमार माता-पिता को हर संभव सहायता दिलाने का आश्वासन देकर ढांढस बंधाया और उनका दुख बांटा।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि पीडि़तों को न्याय दिलाना उनका मुख्य उद्देश्य है। कानून मंत्री के साथ पुलिस अधीक्षक विजय ढुल, उप जिलाधिकारी अरुण कुमार सिंह भाजपा जिला अध्यक्ष सुनील कुमार सिंह जिला महामंत्री अनुराग मिश्रा समेत काफी संख्या में आफसर एवं पदाधिकारीगण मौजूद थे। हरिओम मिश्रा की पारिवारिक स्थिति को देख कर मंत्री जी काफी भावुक दिखे।

अखिलेश यादव आज करेंगे कानपुर देहात में विजय रथ से यात्रा, जनसभा को करेंगे संबोधित

कानून मंत्री के मुताबिक, इंसान ही इंसान के दुखों में काम आता है इसलिए पार्टी के सभी लोगों की जिम्मेदारी बनती है कि वह एक दूसरे के सुख दुख में भागीदार बने। हरिओम मिश्रा के परिवार को ढांढस बधाने के बाद प्रदेश सरकार के कानून मंत्री ने भाजपा कार्यकर्ता शुभम मिश्रा के घरवालों से भी मुलाकात की। यहां भी उन्होंने अपनी संवेदना

इसके बाद वह लखीमपुर(Lakhimpur Kheri) के शीतला देवी मंदिर के नजदीक बने कर्मकांड स्थल पर पर भी पहुंचे जहां आज उसका दसवां संस्कार चल रहा है। जहां कर्मकांड स्थल पर जाकर कानून मंत्री ने घटना वाले दिन की पूरी जानकारी ली और पीडि़त परिवार को हर संभव मदद किए जाने का भरोसा दिलाया।

कानून मंत्री ने दिया था अपनी संवेदनशीलता का उदाहरण

कानून मंत्री बृजेश पाठक की संवेदनशीलता उदाहरण उस कोरोना काल की दूसरी लहर के वक्त उस समय सार्वजनिक हुआ जबकि, समय से एंबुलेंस न मिलने के कारण प्रख्यात इतिहासकार लेखक और संगीतकार पद्मश्री डॉ. योगेश प्रवीण की भी मौत हो गई। इसको लेकर प्रदेश के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग व प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा को एक चिी लिखी है। जिसमें उन्होंने कहा है कि अगर खराब व्यवस्था पर ध्यान नहीं दिया गया तो लखनऊ में लॉकडाउन लगाना पड़ सकता है।

श्री पाठक ने अपनी चिी में लिखा, अत्यन्त कष्ट के साथ सूचित करना पड़ रहा है कि वर्तमान समय में लखनऊ जनपद में स्वास्थ्य सेवाओं का अत्यन्त चिन्ताजनक हाल है। इस पत्र के बाद आम लोगों को भी पता चला कि, बृजेश पाठक केवल राजनीति के ही दृष्टिकोण से सामाजिक पहलुओं को नहीं देखते।

Related Articles

Back to top button
E-Paper