कानून-व्यवस्था को चुनौती : ताजनगरी में ट्रिपल मर्डर, हत्या के बाद शवों को जलाने का प्रयास

आगरा। ताजनगरी में ट्रिपल मर्डर की बेहद खौफनाक घटना में अपराधियों ने तीन लोगों की हत्या करने के बाद उनके शवों को आग के हवाले कर दिया। मृतकों की पहचान पति-पत्नी और बेटे के रूप में हुई है। हत्या का तरीका बेहद खौफनाक था। घटनास्थल देखकर एडीजी भी सिहर उठे। सूबे में अपराधियों का बढ़ा मनोबल कानून-व्यवस्था को खुली चुनौती दे रहा है।

एत्माद्​दौला के नगला किशनलाल में रविवार रात दिल दहला देने वाली घटना हुई। घर में सो रहे दंपती और उनके जवान बेटे की हत्या कर उनके शव जलाने की कोशिश की गई। उनके हाथ पैर और चेहरे पर टेप और पॉलीथिन लगी थी। सोमवार सुबह जानकारी होने पर कोहराम मच गया। घर से सामान भी गायब बताया जा रहा है। हत्या की वजह अभी स्पष्ट नहीं है।

मूलरूप से मथुरा में बल्देव के चौड़ा बंबा निवासी 57 वर्षीय रामवीर करीब 30 वर्ष से नगला किशनलाल में रह रहे थे। तीन कमरों के घर में बाहर के कमरे में परचून की दुकान करते थे। परिवार में रामवीर के साथ उनकी 55 वर्षीय पत्नी मीरा और बेटा 23 वर्षीय बबलू था। रात 11.30 बजे तक परचून की दुकान खुल रही थी। सुबह पांच बजे दुकान खुल जाती थी। सोमवार को सुबह छह बजे पड़ोस के लोग दुकान से सामान लेने आए। दुकान बंद मिली तब उन्होंने राममवीर के भाई रघुवीर को आवाज लगाकर बुलाया। रघुवीर ने अंदर घर में देखा तो एक कमरे से धुंआ निकल रहा था। अंदर रामवीर और उनकी पत्नी मीरा फर्श पर पड़े थे। थोड़ी दूरी पर बेटा बबलू पड़ा था। तीनों के हाथ पैर और मुंह पर टेप लगा था।

घटना की सुचना पर एडीजी अजय आनंद, आइजी ए सतीश गणेश और एसएसपी बबलू कुमार मौके पर पहुंच गए। फोरेंसिक टीम को जांच के लिए बुला लिया गया। परिवार की किसी से कोई रंजिश नहीं है। उनकी इस तरह तरह हत्या क्यों हुई। यह कोई समझ नहीं पा रहा है। भाई रघुवीर ने बताया कि घटना के पीछे लूट भी हो सकती है। घर से सामान गायब दिख रहा है। रामवीर ने बेटे की रेलवे में नौकरी के लिए एक वर्ष पहले अपना एक प्लाट बेचा था। वह कैश भी घर में रखता था। एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि अभी घटना से जुड़े सभी पहलुओं पर जांच की जा रही है

Related Articles

Back to top button
E-Paper