किसान न्याय रैली में नही हुई स्थानीय किसानों की बात, जताई नाराज़गी

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी की किसान न्याय रैली में बनारस के किसानों की समस्या न उठाये जाने पर किसान कांग्रेस के राष्ट्रीय सह संयोजक विनय शंकर राय ने कड़ी नाराजगी जताई है। रैली के बाद किसान कांग्रेस के पदाधिकारी ने रोहनिया बैरवन में मोहनसराय ट्रान्सपोर्ट नगर योजना से प्रभावित किसानों के साथ बैठक कर पार्टी के नेताओं पर जमकर निशाना साधा.

किसान न्याय रैली

20 सालों से चल रही हक की लड़ाई को किया नज़रअंदाज़

विनय राय ने कहा कि कांग्रेस की किसान न्याय रैली मे 20 वर्षो से अपने हक अधिकार के लिये संघर्षरत मोहनसराय ट्रान्सपोर्ट नगर योजना से प्रभावित किसानों का मामला न उठना निंदनीय है। इसी तरह जिले के किसानों के मुद्दे सहित रिंग रोड, राष्ट्रीय राजमार्ग, पंचकोशी रोड के गैरकानूनी ढंग से जमीनों के अधिग्रहण का मामला भी उठा। बैठक में निंदा प्रस्ताव पास कर विनय राय ने कहा कि प्रियंका गांधी की किसान न्याय रैली नही किसान प्रतिकार रैली थी । इसमें हजारों किसान अपने स्थानीय मुद्दे पर कांग्रेस के नेता से सम्बल की आस लेकर गये थे लेकिन सम्बल तो दूर एक शब्द चर्चा नही करना कांग्रेस के संकुचित विचार को सिद्ध करता है।

वाराणसी में गरजीं प्रियंका, कहा- यूपी में बदलाव बिना नहीं जाउंगी, जनता से मांगा साथ

विश्व हिन्दू परिषद ने भी काटा हंगामा

इसके लिए दोषी स्थानीय एवं प्रदेश नेतृत्व है, जिनकी नैतिक जिम्मेदारी होती है कि जिस जमीन पर रैली कर रहे है। दुर्गाकुंड स्थित कूष्मांडा दरबार में प्रियंका गांधी के दर्शन् पूजन के बाद विश्व हिंदू सेना के कार्यकर्ताओं ने इसका विरोध किया। कार्यकर्ताओं ने मंदिर के द्वार का शुद्धिकरण करने के लिए सफेद फूल और गंगा जल का छिड़काव भी किया। सेना के नेता अरूण पाठक ने सोशल मीडिया में इसका वीडियो वायरल करा दिया। इसको लेकर सोशल मीडिया में लोग तीखी प्रतिक्रिया देते रहे। यहां मंदिर के बाहर प्रियंका गांधी के जाते समय भाजपा के कार्यकर्ताओंं ने भी विरोध में नारेबाजी की। यह देख कांग्रेस कार्यकर्ताओं का तेवर आक्रामक रहा। कांग्रेस के नेताओं के साथ पुलिस अफसरों ने उन्हें हटाया बढ़ाया।

Related Articles

Back to top button
E-Paper