राम जानकी मंदिर के महंत ने अयोध्‍या में राम मंदिर के लिए दिए एक लाख 51 हजार

बेगूसराय अयोध्या में बनने वाले भव्य श्री राम मंदिर में सहभागिता के लिए चल रहा निधि समर्पण अभियान संपन्न हो गया। अभियान के अंतिम दिन शनिवार की देर रात तक लोग विभिन्न टोली को बुलाकर प्रभु श्रीराम के काम में अपना सर्वस्व समर्पण करते रहे। इस दौरान अभियान के अंतिम बेला में श्रीराम जानकी मंदिर बीहट के महंत राम लखन सिंह ने एक लाख 51 हजार समर्पण करते हुए चेक अभियान टोली को सौंपा।

राम जानकी मंदिर

उन्होंने कहा कि अयोध्या में बन रहा श्रीराम मंदिर सिर्फ सनातन संस्कृति का ध्वजवाहक नहीं, विश्व के सबसे अग्रणी सांस्कृतिक संस्कृति का राष्ट्रवादी प्रतीक है। प्रभु श्रीराम सिर्फ भारत नहीं, विश्व की सनातन संस्कृति के सबसे अग्रज पूज्य हैं। सनातन संस्कृति के ध्वजवाहकों द्वारा सैकड़ों वर्ष तक किए गए संघर्ष और लाखों बलिदान के बाद यह पावन अवसर सामने आया है जब राष्ट्र हितैषी भावना से ओत-प्रोत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के कार्यकाल में वहां मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त हुआ और निर्माण कार्य तेज हो गया है।

ऐसे में हम सब सौभाग्यशाली हैं कि मंदिर बनते देखने का पावन अवसर मिल रहा है। अब प्रभु श्री राम का दर्शन उनके जन्मस्थली में तंबू नहीं, भव्य मंदिर में होगा। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास ट्रस्ट ने हम सब को यह सौभाग्य प्रदान किया कि मंदिर निर्माण में एक ईंट ही सही, लेकिन अपने नाम का लगा सकें। हमारे पास जो कुछ है वह प्रभु का दिया और प्रभु का है, हम तो माध्यम मात्र हैं।

इधर, भाजपा के वरिष्ठ नेता और विधान पार्षद रजनीश कुमार ने भी जिला अभियान प्रमुख-सह- विश्व हिंदू परिषद के जिला मंत्री विकास भारती समेत अन्य स्वंयसेवकों की मौजूदगी में समर्पण राशि सौंपी। विकास भारती ने बताया बेगूसराय में निधि समर्पण अभियान संपन्न हो गया। इस दौरान शनिवार की देर रात तक रामकाज में सहभागी बनने के इच्छुक लोग अभियान टोली को बुलाकर निधि समर्पण करते रहे।

बैंक बंद रहने के कारण सोमवार को राशि जमा की जाएगी। इसके बाद स्पष्ट हो सकेगा कि बेगूसराय ने रसीद और कूपन के माध्यम से कितनी राशि सौंपी। उम्मीद जताई जा रही की कूपन और रसीद के माध्यम से 75 लाख से अधिक राशि जमा की गई है। जबकि ऑनलाइन भी बड़ी संख्या में लोगों ने निधि समर्पित किया है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper