ममता का अधिकारी परिवार पर एक और वार, चेयमैन पद से हटाए गए शुभेंदु के पिता

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की राजनीति में उठा-पटक के बीच ममता बनर्जी ने अधिकारी परिवार पर एक और वार किया है। ममता बनर्जी ने शुभेंदु अधिकारी के पिता को चेयरमैन पद से हटा दिया है।

रायपुर : मारपीट के आरोप में कांग्रेस पार्षद और उसके भाई के खिलाफ केस दर्ज

ममता बनर्जी का साथ छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले राज्य के कद्दावर नेता शुभेंदु अधिकारी के परिवार के एक और सदस्य के भाजपा में शामिल होने की अटकलें तेज हो गई हैं। काथी लोकसभा सीट से तृणमूल कांग्रेस के सांसद और शुभेंदु अधिकारी के पिता शिशिर अधिकारी को तृणमूल कांग्रेस ने दीघा संकरपुर विकास परिषद के चेयरमैन पद से हटा दिया है।

इसकी वजह से अधिकारी परिवार के साथ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और तृणमूल कांग्रेस की दूरियां और अधिक बढ़ गई हैं।

खबर है कि शुभेंदु की तरह शिशिर अधिकारी भी जल्द भाजपा में शामिल हो सकते हैं। कुछ दिनों पहले काथी नगरपालिका के चेयरमैन के पद से शुभेंदु अधिकारी के भाई सोमेंदु अधिकारी को तृणमूल कांग्रेस ने हटा दिया था, जिसके बाद सोमेंदु भाजपा में शामिल हो गए। सौमेंदु को हटाए जाने को लेकर शुभेंदु अधिकारी के भाई दिव्येंदु अधिकारी ने नाराजगी जाहिर की थी और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को चिट्ठी लिखकर पूछा था कि आखिर किस अपराध की वजह से उन्हें नगरपालिका अध्यक्ष के पद से हटाया गया था।

इसके बाद से अब जब खुद शिशिर को ही दीघा संकरपुर विकास परिषद के चेयरमैन के पद से हटा दिया गया है तो माना जा रहा है कि अधिकारी परिवार की नाराजगी अब और अधिक बढ़ेगी और वह भी बेटे की तरह भाजपा में शामिल हो सकते हैं। अगर ऐसा हुआ तो विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी को इसकी वजह से काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है।

दीघा संकरपुर विकास परिषद के चेयरमैन के पद से शिशिर को हटाकर उनकी जगह तृणमूल कांग्रेस के विधायक अखिल गिरी को नया चेयरमैन नियुक्त किया गया है। उल्लेखनीय है कि शुभेंदु अधिकारी के पिता शिशिर अधिकारी पूर्व केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं और जब कांग्रेस में थे तो पूरे मेदनीपुर क्षेत्र में केवल कांग्रेस की जीत होती थी। उसके बाद वे ममता बनर्जी के साथ तृणमूल में शामिल हो गए थे। इसके बाद से इस क्षेत्र में हमेशा तृणमूल का दबदबा रहा है। अब अगर वह भाजपा में शामिल होते हैं तो निश्चित तौर पर इसका लाभ भाजपा को मिलेगा।

Related Articles

Back to top button
E-Paper