महोबा में दलित महिला प्रधान से दंबगों ने की बदसलूकी, ऑनलाइन मीटिंग के दौरान हाथ पकड़ कुर्सी से उतारा, कहा- ये कुर्सी तुम्हारे लायक नहीं

यूपी में दलित महिला प्रधान से अभद्रता की घटना सामने आई है। महोबा में एक अनुसूचित जाति की महिला प्रधान को दबंगो ने अपने हिसाब से प्रधानी चलाने को लेकर धमकी दी है। महिला की तहरीर पर शहर कोतवाली में चार नामजद समेत दस आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

मामला महोबा जिले के कबरई ब्लॉक के नथुपूरा गांव का है। जहां ऑनलाइन मीटिंग के दौरान ग्राम प्रधान को कुछ दबंग लोगों ने कुर्सी से यह कहते हुए नीचे उतार दिया कि वो कुर्सी पर बैठने के लायक नहीं है। इस दौरान दबंगों ने जातिसूचक शब्द भी कहे। इस पर वहां विवाद हो गया। सूचना पर पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है जबकि अन्य अभी फरार हैं। आरोपी रामू राजपूत को गिरफ्तार कर पुलिस ने जेल भेज दिया है। एएसपी आर के गौतम ने बताया कि पूरे मामले में सभी आरोपियों के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया है। अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी भी जल्द की जाएगी।

वहीं महिला ग्राम प्रधान के पति वीरेंद्र ने कहा कि गांव में ऐसा भेदभाव उन्हें अंदर से परेशान कर रहा है कि आजादी के इतने साल बाद भी उन्हें समाज में कुर्सी पर बैठने का अधिकार नहीं है।

मालूम हो कि महोबा में ही इससे पहले एक युवक ने शादी में घोड़ी चढ़ने के लिए पुलिस से सुरक्षा मांगी थी। महोबकंठ थाना क्षेत्र के माधोगंज गांव के रहने बाले अलखराम की शादी 18 जून को रामसखी से होनी है। अलखराम अपनी शादी में घोड़ी पर चढ़ना चाहता है और धूमधाम से बारात निकालाना चाहता है। अलखराम का आरोप है कि गांव के कुछ दबंग उसे गांव में घोड़ी पर निकलने से रोक रहे हैं और धमकियां दे रहे हैं कि यदि घोड़ी से निकले तो जान से मार देंगे।

Related Articles

Back to top button
E-Paper