मथुरा: PFI के चारों सदस्यों की न्यायिक हिरासत 90 दिन बढ़ी, जानिए पूरा मामला

पीएफआई के सदस्य

मथुरा: दिल्ली से हाथरस पीड़िता के गांव जाने के दौरान एक्सप्रेस-वे पर पकड़े गए पोपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के चार सदस्यों की न्यायिक हिरासत 90 दिनों के लिए बढ़ा दी गयी है।

मंगलवार को जिला शासकीय अधिवक्ता शिवराम सिंह तरकर ने बताया कि अपर जिला एवं सत्र न्यायालय (प्रथम) अनिल कुमार पाण्डेय की अदालत में पॉपुलर फ्रण्ट ऑफ इण्डिया/कैम्पस फ्रण्ट ऑफ इण्डिया के सिद्दीक कप्पन, अतीकुर्रहमान, आलम और मसूद चार सदस्यों के केस के मामले में एसटीएफ के उपाधीक्षक राकेश पालीवाल ने सोमवार देरसायं इस मामले में चार्जशीट पेश करने के लिए तीन माह का और समय मांगा।

यूपी में कोरोना वैक्‍सीन लगवाने के लिए इस तरह होगा रजिस्‍ट्रेशन, दिखाने पड़ेंगे ये कागजात

इस पर कोर्ट ने मंगलवार चारों आरोपितों की 90 दिन की न्यायिक हिरासत बढ़ा दी है। उन्होंने बताया कि वैसे भी इस मामले में एनएसए एक्ट लागू होने के बाद कानूनन आरोपपत्र दाखिल करने के लिए जांच दल को 90 दिन के स्थान पर 180 दिन का समय दिए जाने का प्रावधान है। एसटीएफ ने भी यही हवाला देकर कोर्ट से समय मांगा था, जो अदालत ने उन्हें दे दिया है। अब एसटीएफ को इस केस की जांच समाप्त होने के बाद निर्धारित समयसीमा में आरोपपत्र दाखिल करना होगा। विदित रहे कि सिद्दीक कप्पन निवासी मलप्पुरम (केरल), अतीकुर्रहमान निवासी मुजफ्फरनगर, आलम निवासी रामपुर और मसूद निवासी बहराइच को 5 अक्टूबर को मथुरा के मांट थाना क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया था।

मंगलवार को जिला शासकीय अधिवक्ता शिवराम सिंह तरकर ने बताया कि अपर जिला एवं सत्र न्यायालय (प्रथम) अनिल कुमार पाण्डेय की अदालत में पॉपुलर फ्रण्ट ऑफ इण्डिया/कैम्पस फ्रण्ट ऑफ इण्डिया के सिद्दीक कप्पन, अतीकुर्रहमान, आलम और मसूद चार सदस्यों के केस के मामले में एसटीएफ के उपाधीक्षक राकेश पालीवाल ने सोमवार देरसायं इस मामले में चार्जशीट पेश करने के लिए तीन माह का और समय मांगा

Related Articles

Back to top button
E-Paper