यहां बंदर की शव यात्रा निकालकर किया गया अंतिम संस्कार, बड़ी संख्या में लोग हुए शामिल

बांदा। जनपद के बबेरू कस्बे में रविवार को करंट लग जाने से एक बंदर की मृत्यु हो गई जिसका अंतिम संस्कार हिंदू रीति रिवाज के अनुसार किया गया। साथ ही बंदर की शव यात्रा भी निकाली गई।

बंदर की शव यात्रा

आज जब कस्बे में करंट लगने से एक बंदर की मृत्यु होने की खबर फैली तो बड़ी संख्या में लोग वहां जमा हो गए। इसी दौरान विश्व हिंदू महासंघ ब्लॉक अध्यक्ष मनोज त्रिपाठी की अगुवाई में मृत बंदर का अंतिम संस्कार करने का फैसला किया गया। जिसके तहत ग्रामीणों ने बंदर को हनुमान जी का स्वरूप मानते हुए पहले पूजा अर्चना की।

साड़ी पहनकर लड़की ने मारी ‘गुलाटी’, वीडियो देखकर हो जाएंगे हैरान

इसके बाद पारंपरिक रीति-रिवाज से बंदर की शव यात्रा निकाली गई। रास्ते में लोग भी इस अनूठी शवयात्रा को देखकर हाथ जोड़ते नजर आए। शव को कफन से ढंका गया था। शव यात्रा के दौरान ग्रामीण साथ-साथ चलते भजन कीर्तन करते रहे। इसके बाद वैदिक परम्परा के अनुसार उसका अंतिम संस्कार किया।

गजब! यहां शादी के दिन से तीन दिनों तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट, जानिए क्यों?

बताते चलें कि, पांच दिन पहले इसी तरह अलीगंज मोहल्ले में श्री प्रकाश शुक्ला उर्फ पिंटू के घर के समीप लगे पीपल के पेड़ से बंदर छलांग मारकर उनकी छत में आ रहा था तभी वह हाईटेंशन लाइन की चपेट में आ गया था। मोहल्ले के लोगों ने आनन-फानन में उसके मुंह में गंगाजल और तुलसी पत्र डाला और तभी उसने दम तोड़ दिया। तब मोहल्ले के लोगो ने अंतिम संस्कार किया था।

Related Articles

Back to top button
E-Paper