मानसून के आठ जुलाई से दोबारा सक्रिय होने का अनुमान

दक्षिण पश्चिम मानसून एक विराम के बाद एक बार फिर से सक्रिय होने के लिए तैयार है। रविवार को यह जानकारी देते हुए पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव एम राजीवन ने कहा कि पूर्वानुमान मॉडल के संकेत दर्शाते हैं कि आठ जुलाई से बारिश संबंधी गतिविधियां तेज होंगी।

सचिव एम राजीवन ने कहा कि मॉडल में बंगाल की खाड़ी में मौसम तंत्र बनने का संकेत है। करीब तीन दशकों से दक्षिण पश्चिम मानसून पर अनुसंधान कर रहे राजीवन ने ट्वीट किया, “मानसून अपडेट : भारत सरकार के पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के प्रारूप आठ जुलाई से दक्षिण, पश्चिम तटीय और पूर्व मध्य भारत में बारिश संबंधी गतिविधियों की वापसी, वृद्धि का संकेत देते हैं। प्रारूप 12 जुलाई को बंगाल की खाड़ी के ऊपर मौसम तंत्र बनने और उसके बाद सक्रिय मानसून चरण के शुरुआती संकेत भी दे रहे हैं।”

जून के शुरुआती ढाई हफ्तों में बारिश के अच्छे दौर के बाद 19 जून से दक्षिण पश्चिम मानसून आगे नहीं बढ़ा है। दिल्ली, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों, पंजाब और पश्चिमी राजस्थान में अब तक मानसून नहीं पहुंचा है। यह पूछे जाने पर कि दिल्ली समेत बाकी हिस्सों में मानसून के कब तक पहुंचने की उम्मीद है, उन्होंने कहा कि यह 11 जुलाई के आसपास हो सकता है।

जुलाई के लिए अपने पूर्वानुमान में भारत मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि इस महीने देशभर में अच्छी बारिश होगी। हालांकि उत्तर भारत के कुछ हिस्सों, दक्षिणी प्रायद्वीप के कुछ हिस्सों, मध्य, पूर्व और पूर्वोत्तर भारत में सामान्य और सामान्य से कम श्रेणी की बारिश देखने को मिल सकती है। हालांकि, मौसम विभाग ने कहा कि मौसम तंत्र के अभाव में सात जुलाई तक मानसून की प्रगति के लिए अनुकूल परिस्थितियां नहीं हैं।

इस बीच रविवार को उत्तर प्रदेश में छिटपुट स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हुई और कई स्थानों पर गरज के साथ बौछारें पड़ीं हैं।

रविवार को मौसम विभाग ने बताया कि राज्य में छिटपुट स्थानों पर गरज के साथ छींटे पड़े हैं, जबकि बहराइच, सोनभद्र, ललितपुर, शाहजहांपुर, गाजीपुर और महराजगंज में बरसात हुई है। फतेहगढ़ वेधशाला में राज्य का अधिकतम तापमान 42.2 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।

मौसम विभाग ने छह जुलाई को पूर्वी उत्तर प्रदेश में कुछ स्थानों पर और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर बारिश एवं गरज के साथ छींटे पड़ने का अनुमान व्यक्त किया है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper