मां ने अपने एकलौते पांच वर्षीय पुत्र की गला घोंटकर उतारा मौत के घाट

मां

झारखंड से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आया है। मामला जिला सरायकेला के राजनगर थाना क्षेत्र का है। जहां मां द्वारा अपने ही पांच वर्षीय पुत्र की गला घोंटकर हत्या कर दिए जाने का मामला प्रकाश में आया है। हत्या के बाद शव को दो दिनों तक घर में छुपाए रखा और आराम से अपना नित्य कार्य करती रही। ग्रामीणों ने शक होने पर पुलिस को इसकी जानकारी दी। इसके बाद गांव पहुंची पुलिस ने घर से ही शव को बरामद किया और आरोपी कलयुगी मां को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। मामला राजनगर थाना क्षेत्र के बीटा गांव का है।

रेलवे में इन पदों पर नौकरी का सुनहरा मौका, 10वीं पास जल्द करें आवेदन

जानकारी के अनुसार बीते बुधवार शाम को ही अशांति तियू ने अपने पांच वर्षीय बेटे विनीत तियू का नारियल की रस्सी गले में बांध कर गला घोंट दिया था। इसके बाद उसका शव घर के अंदर ही फर्श पर दो दिनों तक पड़ा रहा। हत्या के समय घर में कोई नहीं था। सिर्फ मां और बेटे ही घर में थे। आरोपी महिला अशांति तियू का पति महेंद्र तियू विगत कई माह से बीमार है और करीब 15 दिनों से जमशेदपुर के ब्रह्मानंद अस्पताल में भर्ती है। बुधवार को आरोपी महिला के पति की अस्पताल से छुट्टी मिलने वाली थी, जिसको लाने उसके ससुर अस्पताल गए थे।

हत्या के बाद भी अशांति तियू अपना घर का सारा काम करती रही। गुरुवार शाम तक भी बच्चा नजर नहीं आया तो पास के घर की एक लड़की ने विनीत के बारे में उससे पूछा। महिला द्वारा बताया गया कि विनीत सो रहा है। जब लड़की को शक हुआ तो उसने घर के अंदर जाकर देखा तो विनीत को जमीन पर मृत पड़ा था।

इसके बाद उसने गांव वालों को इसकी जानकारी दी। घर में किसी पुरुष के नहीं होने के कारण पहले पुलिस को कोई जानकारी नहीं दी गई। फोन से ही अस्पताल में इलाजरत उसके पति को इस बावत जानकारी दी गई। इसके बाद गांव वालों ने पुलिस को भी सूचित किया।

शुक्रवार को राजनगर पुलिस ने उसके घर जाकर मृत बच्चे का शव बरामद किया। पुलिस ने गत्या में प्रयुक्त नारियल की रस्सी भी जब्त कर लिया है। हत्यारोपी महिला ने पुलिस के समक्ष गुस्से में आकरर पुत्र की हत्या करने की बात स्वीकारी। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करा कर परिजनों को सौंप दिया है।

थाना प्रभारी शंभू शरण दास ने बताया कि आरोपी मां को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। उन्होंने बताया कि महिला का पति बैंक में कार्यरत है और बाहर कहीं पोस्टेड था। बीमार पड़ने के बाद तीन चार माह से घर पर रहकर इलाज करा रहा था। पति की बीमारी के कारण वह चिड़चिड़ा रहने लगी थी। इसी दौरान किसी बात को लेकर गुस्सा में आकर उसने पुत्र की हत्या कर दी।      

Related Articles

Back to top button
E-Paper