सांसद दिव्येंदु ने ममता से पूछा सवाल, कांथी नगरपालिका से क्यों हटाए गए सोमेंदु ?

तृणमूल सांसद दिव्येंदु अधिकारी

कोलकाता: विधानसभा चुनाव से पहले राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कांग्रेस में मचा घमासान बढ़ता जा रहा है। पूर्व मेदिनीपुर की कांथी नगरपालिका के प्रशासक पद से शुभेंदु अधिकारी के भाई सोमेंदु को हटाए जाने को लेकर अधिकारी परिवार नाराज बताया जा रहा है। तृणमूल सांसद दिव्येंदु अधिकारी ने इसे लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को चिट्ठी लिखी है। इसमें उन्होंने पूछा है कि आखिर किस अपराध की वजह से सौमेंदु अधिकारी को कांथी नगरपालिका के प्रशासक के पद से हटाया गया?

बंगाल: ममता ने गवर्नर के खिलाफ खोला मोर्चा, राष्ट्रपति से कहा- इन्हे हटाओ

बता दें कि पूर्व मेदिनीपुर में अधिकारी परिवार का राजनीतिक वर्चस्व है और पिछले 50 सालों से इस नगरपालिका पर अधिकारी परिवार का ही कब्जा रहा है।

शुभेंदु के एक और भाई व तृणमूल सांसद दिव्येंदु अधिकारी ने इसे लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को चिट्ठी लिखी है। इसमें उन्होंने पूछा है कि आखिर किस अपराध की वजह से सौमेंदु अधिकारी को कांथी नगरपालिका के प्रशासक के पद से हटाया गया? उन्होंने पूछा है कि क्या ऐसा कारण था कि कांथी नगरपालिका के वर्तमान बोर्ड को भंग कर सिद्धार्थ माइती को सौमेंदु की जगह प्रशासक नियुक्त किया गया।

इस बारे में दिव्येंदु अधिकारी ने कहा कि “मैं, मेरे पिता शिशिर अधिकारी और मेरे भाई सोमेंदु अधिकारी अभी भी तृणमूल कांग्रेस में हैं और पार्टी के लिए काम कर रहे हैं। आखिर क्या वजह थी कि उन्हें नगरपालिका के प्रशासक के पद से हटाया गया? इसी का जवाब लेने के लिए मैंने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा।” उन्होंने कहा कि इन प्रश्नों का जवाब जबतक नहीं मिलेगा तबतक कांथी नगरपालिका में पैर नहीं रखेंगे। उनके पिता शिशिर अधिकारी भी नगरपालिका में नहीं जाएंगे।

उल्लेखनीय है कि बंगाल में बड़ा जनाधार रखने वाले शुभेंदु अधिकारी ने तृणमूल छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया है। उसके बाद गत मंगलवार को उनके भाई सोमेंदु अधिकारी को तृणमूल कांग्रेस ने कांथी नगरपालिका के प्रशासक के पद से हटा दिया था। इसका कोई कारण नहीं बताया गया है जिसे लेकर शुभेंदु अधिकारी का परिवार नाराज बताया जा रहा है।

पूर्व मेदिनीपुर में अधिकारी परिवार का राजनीतिक वर्चस्व है और पिछले 50 सालों से इस नगरपालिका पर अधिकारी परिवार का ही कब्जा रहा है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper