उप्र: मुख्यमंत्री आरोग्य मेले का शुभारंभ, गरीबों को मिलेगी बेहतर इलाज की सुविधा

लखनऊ: उत्तर-प्रदेश के मुख्य सचिव आर के तिवारी और जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश द्वारा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र उजरियाओ, गोमतीनगर में मुख्यमंत्री आरोग्य मेले का शुभारम्भ किया गया। अब फिर से हर गरीब मरीज को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिलेगी।

कानपुर में बर्ड फ्लू ने दी दस्तक, चिड़ियाघर के मृत पक्षियों की रिपोर्ट आई पॉजिटिव

प्रदेश में ‘मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले’ का आयोजन रविवार से पुनः प्रारम्भ किया गया। मुख्य सचिव आरके तिवारी व जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने राजधानी में गोमतीनगर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र उजरियांव में इस आरोग्य मेले का शुभारम्भ किया।

उन्होंने बताया कि राज्य के असेवित एवं दूरस्थ क्षेत्रों में चिकित्सक, जांच और दवाई की बेहतर पहुंच सुनिश्चित करने के लिए सभी ग्रामीण एवं शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में आज से प्रत्येक रविवार को ‘मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेला’ आयोजित किया जा रहा है। वैश्विक महामारी कोरोना के कारण बीते वर्ष 15 मार्च के बाद इन मेलों का आयोजन स्थगित कर दिया गया।

वहीं अब प्रत्येक रविवार सुबह 10:00 बजे से अपराह्न 4:00 बजे तक इस आरोग्य स्वास्थ्य मेला में लोग विभिन्न सुविधाओं का लाभ ले सकेंगे। प्रदेश सरकार ने आरोग्य स्वास्थ्य मेले के जरिए ‘नए साल में नई उड़ान, स्वास्थ्य सुरक्षा और सम्मान’ का मंत्र दिया है।

आरोग्य मेला में ओपीडी सेवाएं, टीबी, मलेरिया, डेंगू, दिमागी बुखार, कालाजार, फाइलेरिया एवं कुष्ठ रोग से संबंधित जानकारी, आवश्यक जांच, उपचार एवं संदर्भन सुविधाएं, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना एवं मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान की जानकारी तथा पात्र लाभार्थियों को गोल्डन कार्ड वितरण, गर्भावस्था एवं प्रसवकालीन परामर्शदाता सेवाएं, पूर्ण टीकाकरण परामर्श सेवाएं, बच्चों में डायरिया एवं न्यूमोनिया के रोकथाम, बचाव एवं उपचार की जानकारी एवं सुविधाओं के साथ कुपोषित बच्चों का चिह्नीकरण एवं उनके उपचार के लिए समुचित कार्यवाही की जाएगी। 

इससे पहले प्रदेश में 02 फरवरी से 15 मार्च, 2020 तक समस्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर लगातार कुल सात मेलों का आयोजन किया गया। मेलों में ही 31.36 लाख रोगियों को पंजीकृत कर उपचारित किया गया था। 32,425 कुपोषित बच्चे चिह्नित किए गए थे। 76,063 रोगियों को बेहतर उपचार के लिए उच्चतर चिकित्सा इकाइयों में भेजा गया। साथ ही, इन मेलों में ‘आयुष्मान भारत योजना’ के अन्तर्गत 2,30,890 व्यक्तियों के गोल्डन कार्ड बनाए गए।

Related Articles

Back to top button
E-Paper