बाल दिवस पर बोले वेंकैया नायडू,बच्चे ही भविष्य के कर्णधार

नयी दिल्ली. उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने बाल दिवस के अवसर पर बच्चों के सुखद भविष्य की कामना की है और उन्हें भविष्य का कर्णधार बताया है।

 नायडू ने रविवार को बाल दिवस के अवसर पर जारी एक संदेश में कहा है कि बच्चों को ऊंचे सपने देखने चाहिए और उन्हें पूरा करने के लिए कड़ा परिश्रम करना चाहिए। बच्चे देश का भविष्य है। उन्हें अच्छी शिक्षा, अच्छा परिवेश और पोषण उपलब्ध कराना चाहिए।

वेंकैया नायडू ने कहा, “आज बालदिवस के अवसर पर बच्चों के स्वस्थ, शिक्षित, निरापद और उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं। बच्चे देश का भविष्य हैं, उनकी शिक्षा, स्वास्थ्य, पोषण और सुरक्षा सारे समाज का साझा दायित्व है। घातक कोविड महामारी से बच्चे प्रायः सुरक्षित रहे हैं और अब उनके लिए वैक्सीन भी संभव हो रही है।”

नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 (इलाहाबाद)में हुआ था.आधुनिक भारत के निर्माता के रूप जवाहरलाल नेहरू को जाना जाता है.नेहरु समाजवादी,सम्प्रभु, धर्मनिरपेक्ष और लोकतंत्र के वास्तुकार माने जाते हैं.नेहरु को बच्चे चाचा नेहरु के नाम से जानते हैं.पंडित नेहरु के जन्म जयंती को बाल दिवस के रूप में मनाया है.

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की जयंती पर उनको भावपूर्ण नमन किया और कहा है कि राष्ट्र निर्माण में उनका योगदान है।

 नायडू ने रविवार को पंडित नेहरू की जयंती पर यहां जारी एक संदेश में कहा कि पंडित नेहरू को राष्ट्र निर्माण में योगदान के लिए हमेशा याद रखा जाएगा।

 नायडू ने कहा, “स्वाधीन भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की जन्म जयंती पर, स्वाधीनता आंदोलन तथा राष्ट्र निर्माण में आपके योगदान को सादर प्रणाम करता हूं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper