सुशांत केस: NCB की मुंबई में ताबड़तोड़ छापेमारी, ड्रग्स मामले में हो सकता है बड़ा खुलासा?

सुशांत सिंह राजपूत की मौत को तीन महीने से ज्यादा बीत जाने के बाद भी विभिन्न जांच एजेंसियों की जांच जारी है। जहां ड्रग्स केस में NCB लगातार एक्शन ले रहा है। एनसीबी ने गुरुवार को मुंबई के कई इलाकों में ताबड़तोड़ छापेमारी की है। माना जा रहा है कि जल्द ही ड्रग्स मामले में कोई बड़ा खुलासा हो सकता है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, NCB की टीम ने मुंबई के तीन इलाकों में छापे डाले हैं। एजेंसी अब तक रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शौविक समेत कई लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। रिया चक्रवर्ती 22 सितंबर तक जेल में हैं। इससे पहले एनसीबी ने बुधवार को श्रुति मोदी को पूछताछ के लिए बुलाया था। श्रुति दफ्तर पहुंची भीं, लेकिन कुछ देर बाद वह वापस वहां से चली गईं।

ये भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट ने सुदर्शन टीवी के शो यूपीएससी जिहाद पर लगाई रोक

इस पर एनसीबी ने बताया था कि एसआईटी टीम के एक सदस्य के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की वजह से श्रुति मोदी को वापस भेज दिया गया। वहीं, पूरे मामले में रिया चक्रवर्ती और उसके भाई शौविक चक्रवर्ती की टेंशन बढ़ने वाली है, क्योंकि NCB ने ड्रग पेडलर सूर्यदीप को गिरफ्तार किया है। सोमवार को एनसीबी ने सूर्यदीप मल्होत्रा के के घर पर छापेमारी की थी, जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया था। इसके साथ ही जांच एजेंसी ने क्रिश कोस्टा को भी गिरफ्तार किया गया है।

ये भी पढ़ें- जियो ने लॉन्च किए नए क्रिकेट प्लान्स, घर बैठे ऐसे देखें आईपीएल

NCB की रडार पर सारा, रकुल प्रीत और सिमोन

रिया चक्रवर्ती ने पिछले दिनों एनसीबी के सामने एक्ट्रेस सारा अली खान, रकुल प्रीत सिंह और डिजाइनर सिमोन खंबाटा का नाम लिया था, जिसके बाद तीनों जांच एजेंसी के रडार पर हैं। एनसीबी अधिकारी ने बताया था कि रिया ने एक्ट्रेस सारा अली खान, रकुल प्रीत सिंह और डिजाइनर सिमोन खंबाटा के नाम लिए हैं। एनसीबी के डिप्टी डायरेक्टर केपीएस मल्होत्रा ने बताया कि जांच एजेंसी ने अभी तक इन सभी लोगों को समन नहीं भेजा है।

वहीं, अपना नाम सामने आने के बाद रकुल प्रीत सिंह ने दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया, जिस पर आज सुनवाई हुई। रकुल ने याचिका में दावा किया है कि रिया चक्रवर्ती अपना वह बयान वापस ले चुकी है जिसमें उसने कथित तौर पर याचिकाकर्ता का नाम लिया था, उसके बावजूद मीडिया में आ रही खबरों में उन्हें इस मामले से जोड़ा जा रहा है। इस पर हाईाकोर्ट ने केंद्र सरकार से जवाब मांगा है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper