सुभाष चंद्र बोस जयंती कार्यक्रम में पीएम मोदी के संबोधन से पहले हुआ कुछ ऐसा, ममता हुईं नाराज

पीएम मोदी

केंद्र सरकार की ओर से नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के मौके पर आयोजित पराक्रम दिवस समारोह में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नाराज हो गई। इस कार्यक्रम में सौजन्यता निभाने के लिए प्रोटोकॉल के तहत ममता बनर्जी पीएम मोदी की मौजूदगी में पहुंचीं तो जरूर लेकिन संबोधन से पहले कुछ ऐसा हुआ जो उन्हें रास नहीं आया। इसकी वजह से नाराज ममता ने मंच छोड़ दिया है। दरअसल, कहा जा रहा है कि जब मंच पर ममता बनर्जी को बोलने के लिए आमंत्रित किया गया तो वहां ‘जय श्री राम’ के नारे लगे।

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंच पर मौजूद थे। सीएम ममता ने भाषण देने से भी इनकार कर दिया। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कार्यक्रम में आने के लिए आभार जताया। सीएम ममता ने कहा कि कार्यक्रम में बुलाकर उनका अपमान किया गया है।

नवलनी ने किया पुतिन की सीक्रेट लाइफ का खुलासा, प्रेमिकाओं पर लुटा रहे हैं सरकारी खजाना

दरअसल कार्यक्रम में ऊषा उत्थुप की “एकला चलो” प्रस्तुति के बाद संबोधन के लिए ममता बनर्जी का नाम अनाउंस किया गया था। लेकिन माइक में ममता बनर्जी का नाम सुनते ही विक्टोरिया मेमोरियल और आसपास के लोगों ने जय श्री राम के नारों का उद्घोष करना शुरू कर दिया।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि ये सरकार का कार्यक्रम है, किसी पार्टी का नहीं है। किसी को बुलाकर अपमानित करना ठीक नहीं है। उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि सरकार के कार्यक्रम में गरिमा होनी चाहिए। यह कोई राजनीतिक कार्यक्रम नहीं है। किसी को आमंत्रित करने के बाद अपमान करना शोभा नहीं देना। विरोध के रूप में, मैं कुछ भी नहीं बोलूंगी।”

इससे ममता बनर्जी चिढ़ गयीं और नाराजगी में भाषण भी नहीं दिया। वह मंच से उतरकर बाहर चली गयीं। हालांकि पीएम मोदी और राज्यपाल जगदीप धनखड़ विक्टोरिया मेमोरियल में ही मौजूद हैं। माना जा रहा है कि इस घटना की वजह से राज्य की राजनीतिक सरगर्मी बढ़ने वाली है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper