उप्र में नए किरायेदारी कानून को मिली मंजूरी, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

नए किरायेदारी कानून

लखनऊ:  उत्तर प्रदेश की योगी कैबिनेट ने नए किरायेदारी कानून को मंजूरी दे दी।उत्तर प्रदेश नगरीय किरायेदारी विनियमन अध्यादेश-2021 बनाया गया है। इस अध्यादेश को आज  कैबिनेट बाई सर्कुलेशन के जरिए मंजूरी दी गई। इसके तहत मकान मालिक अब मनमाने ढंग से किराया नहीं बढ़ा सकेंगे। 

लखनऊ में तैनात 41 निरीक्षकों का गैर जनपद किया गया तबादला, ये है पूरी लिस्ट

दरअसल योगी सरकार ने मकान मालिक और किरायेदारों के बीच अक्सर होने वाले विवादों को कम करने के लिए नए किरायेदारी कानून के तहत उत्तर प्रदेश नगरीय किरायेदारी विनियमन अध्यादेश-2021 बनाया है। इस अध्यादेश को आज  कैबिनेट बाई सर्कुलेशन के जरिए मंजूरी दी गई। 

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता के अनुसार इस अध्यादेश के तहत कोई भी मकान मालिक बगैर अनुबंध किसी को किराये पर अपना मकान नहीं दे सकेगा। मकान मालिक और किरायेदार के बीच किसी भी विवाद के निपटारे के लिए रेंट अथारिटी एवं रेंट ट्रिब्यूनल का प्राविधान किया गया है, जहां अधिकतम 60 दिनों के अंदर वादों का निस्तारण होगा। 

इसके अलावा इस अध्यादेश के अनुसार कोई मकान मालिक मनमाना ढंग से किराया नहीं बढ़ा सकेगा। वह आवासीय मकानों के लिए मात्र पांच प्रतिशत और गैर आवासीय परिसर में केवल सात फीसदी सालाना किराया बढ़ा सकता है। 

Related Articles

Back to top button
E-Paper