प्रयागराज: नोडल अधिकारी-प्रमुख सचिव वन एवं पर्यावरण ने की कोविड-19 की समीक्षा

प्रयागराज। नोडल अधिकारी/प्रमुख सचिव वन एवं पर्यावरण सुधीर गर्ग ने शनिवार को देर शाम संगम सभागार में कोविड-19 की समीक्षा बैठक की। समीक्षा के दौरान नोडल अधिकारी ने डोर-टू-डोर सर्वे की जानकारी लेते हुए इसे और बढ़ाये जाने के निर्देश दिये। तत्पश्चात कैंटोनमेंट जोन/नान कैंटोनमेंट जोन के विभाजन की जानकारी लेते हुए कहा कि कैन्टोनमेंट जोन में शत-प्रतिशत टेस्ट कराये जाये।

ये भी पढ़ें- बॉलीवुड के दिग्गज सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम का 74 वर्ष की उम्र में निधन

उन्होंने कांटेक्ट टेªसिंग को और बढ़ाये जाने का निर्देश दिया। उन्होंने अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की डाटा फीडिंग और उसको सुरक्षित रखने के निर्देश दिये है। होम आइशोलेशन की जानकारी लेते हुए कहा कि मरीजों से कम से कम दो बार बातचीत अवश्य की जाये। इसके साथ ही होम आइशोलेशन में रह रहे मरीजों के परिजनों के पास चिकित्सक का मोबाइल नम्बर आवश्यक रूप से होना चाहिए ताकि कोई परेशानी होने पर तत्काल सम्पर्क कर सके।

ये भी पढ़ें- बिहार के पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडेय JDU में शामिल, बोले- नीतीश का था बुलावा

नोडल अधिकारी ने प्रतिदिन सैम्पलिंग के लक्ष्य की जानकारी लेते हुए उन्होंने यथासम्भव 6000 लोगो की प्रतिदिन जांच कराये जाने के लिए कहा है। उन्होंने इस कार्य में किसी भी प्रकार की शिथिलता न बरतने के भी निर्देश दिये। भर्ती मरीजों की स्थिति की जानकारी ली तथा माइक्रो कैंटोनमेंट जोन के निर्धारण की जानकारी लेते हुए माइक्रो कैंटोनमेंट जोन को और बढ़ाये जाये तथा साफ-सफाई के साथ-साथ सैनेटाइजेशन के कार्य को भी नियमित रूप से कराये जाने के लिए कहा है।

नोडल अधिकारी एल-2 और एल-3 के अस्पतालों में बेड़ों की संख्या और बढ़ाये जाने तथा लोगो को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु निरंतर जागरूकता अभियान चलाये जाने के लिए कहा है। उन्होंनें रेलवे अस्पताल में कोविड मरीजों के इलाज के सम्बंध में की गयी व्यवस्थाओं के जानकारी लेते हुए कहा कि जो रेलवे कालोनियों है, उसका एक समय निर्धारण करते हुए सभी लोगो की जांच कराये जाने के लिए कहा है।

समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी भानु चन्द्र गोस्वामी, नगर आयुक्त रवि रंजन, मुख्य विकास अधिकारी- आशीष कुमार, प्राचार्य मेडिकल कालेज एस0पी0 सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी जी0एस0 वाजपेयी सहित सभी सम्बंधित अधिकारी एवं चिकित्सकगण मौजूद थे।

Related Articles

Back to top button
E-Paper