OMG! धरती पर ये कचरा फेंक रहे एलियंस, हार्वर्ड प्रोफेसर के दावे से दुनिया हैरान

एलियंस को लेकर आपने पहले भी बहुत कुछ सुना होगा। दरअसल एलियंस के असि्तत्‍व और उनसे जुड़ी जानकारियों को जानने के लिए अधिकतर सभी उत्‍साहित रहते हैं। वहीं एलियंस को लेकर अब एक और बड़ा दावा किया गया है। यह दावा हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर अवी लोएब ने किया है।

एलियंस

प्रोफेसर अवी लोएब ने अपने दावे में कहा है कि एलियंस अंतरिक्ष से धरती पर कचरा फेंक रहे हैं। बता दें कि अवी लोएब हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में एस्ट्रोनॉमी डिपार्टमेंट के प्रोफेसर हैं। लोएब ने दावा किया है कि पृथ्‍वी की तरफ आने वाले उल्‍कापिंड या एस्‍टेरॉयड द्वारा फेंके जा रहे हैं। इन्‍हीं उल्‍कापिंडों को कचरे का नाम दिया गया है।

OMG! इस्तेमाल किए हुए कंडोम में फंस गया सांप और फिर…                                                                                           

अवी लोएब ने अपने दावे में कहा है कि अंतरिक्ष से धरती की तरफ आने वाले चमकते हुए पत्थर इस बात का प्रमाण हैं कि धरती के अलावा भी जीवन है। उनका मानना है कि ये पत्थर एलियंस या अंतरिक्ष में मौजूद दूसरी सभ्यता की ओर से फेंका गया कचरा हैं।

एलियंस

प्रोफेसर ने बताया कि धरती की तरह अंतरिक्ष में भी कचरा फैला हुआ है। इसे समय-समय पर दूसरी दुनिया या अंतरिक्ष में रहने वाले प्राणी धरती की तरफ फेंकते हैं। उन्होंने बताया कि साल 2017 में ऐसा ही स्पेस गारबेज एलियंस ने फेंका था। प्रोफेसर का दावा है कि अंतरिक्ष के इस कचरे ने हमारे सौर मंडल की यात्रा की, हालांकि हमने उसे एक चमकने वाला पत्थर समझा।

इस शख्स ने बनाई लकड़ी की कार, देखकर आप भी जाएंगे चौंक

प्रोफेसर ने साल 2017 में अंतरिक्ष से धरती की ओर आई वस्तु को ओउमुआमुआ (Oumuamua) नाम दिया। यह 300 फीट लंबी पत्थर जैसी दिखने वाली वस्तु है।

एलियंस

बता दें कि ओउमुआमुआ के बारे में कहा जाता है कि यह पहला ऐसा स्पेस टूरिस्ट है, जिसने अंतरिक्ष की किसी और दुनिया से आकर धरती के चक्कर लगाया और वापस लौट गया। ओउमुआमुआ के बारे में अध्धयन के बाद पाया गया कि यह अन्य उल्कापिंडों की तुलना में चौड़ाई से दस गुना ज्यादा लंबा है। वहीं इतिहास में जितने भी एस्टेरॉयड धरती तक आये उनमे ओउमुआमुआ सबसे अलग था।

(नोट- ऐसी ही अन्‍य रोचक जानकारियों के लिए आप हमें फेसबुक @vishwavartanews और ट्विटर @VishwavartaN पर फॉलो कर सकते हैं।)

Related Articles

Back to top button
E-Paper