OMG! इस शख्‍स को पहले हुआ डेंगू-मलेरिया, फिर कोरोना, बच गया तो कोबरा ने काट लिया और फिर…

जाको राखे साईंया, मार सके ना कोय…, आपने भी ये लाइनें कई बार कहीं न कहीं जरूर सुनी होंगी। लेकिन यही लाइनें आज राजस्‍थान के जोधपुर जिले में एक ब्रिटिश मूल के नागरिक की जिंदगी और मौत पर कारगर साबित हुईं। दरअसल ब्रिटिश मूल के नागरिक ने पहले तो तीन-तीन जानलेवा बिमारियों को मात दी, इसके साथ ही उन्‍होंने कोबरा सांप के द्वारा काटे जाने के बाद भी जिंदगी की जंग में हार नहीं मानी।

कोरोना

बता दें कि ब्रिटिश मूल के नागरिक इयान जोनस कोरोना काल से पहले राजस्थान आए थे। यहां उनको पहले डेंगू और मलेरिया हो गया, इसके बाद फिर कोरोना वायरस ने भी उन्हें अपनी जद में ले लिया। तीनों बीमारियों से जीतने के बाद उन्हें एक जहरीले सांप कोबरा ने काट लिया। हैरानी की बात यह है कि वह इस जहर को भी मात देने में कामयाब रहे।

जानकारी के मुताबिक, इयान जोनस को जोधपुर जिले में एक कोबरा ने काट लिया था। उन्हें जोधपुर के ही एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। अस्पताल के डॉक्टर अभिषेक तातर ने बताया कि इयान जोनस को सांप द्वारा काटे जाने के बाद अस्पताल लाया गया था। शुरुआती जांच में उनके कोरोना पॉजिटिव (दूसरी बार) होने का भी शक हुआ लेकिन जांच में वो नेगेटिव पाए गए। उनके अंदर सांप के काटने के सभी लक्षण दिख रहे थे। उनकी दृष्टि कमजोर हो गई थी, वो मुश्किल से चल पा रहे थे। उनका इलाज किया गया। हमें लगता है कि कोई दीर्घकालिक प्रभाव नहीं होगा। अगर उनकी हालत में पहले की अपेक्षा सुधार नहीं होगा तो वो अगले कुछ दिनों में बिल्कुल ठीक हो जाएंगे।

कोरोना

इयान जोनस को इस हफ्ते की शुरुआत में अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया। जल्द वह अपने देश लौटेंगे। उनके बेटे सैब जोनस ने कहा कि उनके पिता एक फाइटर हैं। भारत में रहने के दौरान वह कोरोना की चपेट में आने से पहले डेंगू और मलेरिया से भी ग्रसित हुए थे। कोरोना संकट की वजह से वह वापस नहीं लौट सके थे।

बता दें कि इयान जोनस राजस्थान के पारम्परिक कलाकारों के साथ काम करते हैं। वह उनके सामान को ब्रिटेन भेजने में भी उनकी सहायता करते हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper