OMG! स्‍वच्‍छता का सबूत देने के लिए इस महिला ने टॉयलेट ने निकालकर पी लिया पानी

चीनी सोशल मीडिया पर एक वीडियो लगातार वायरल हो रहा है जिसमे में एक युवा महिला सफाईकर्मी सीधे टॉयलेट (Toilet) से पानी निकालकर पीते हुए दिख रही है। यह वीडियो चीनी सोशल मीडिया पर एक हफ्ते से यह वीडियो लगातार ट्रेंड कर रहा है।

टॉयलेट

महिला के बारे में अब तक मिली जानकारी के मुताबिक वह चीन के शानडोंग प्रांत में स्थित एक फर्टिलाइजर कंपनी की केयरटेकर है। यह महिला तबसे विवाद के केंद्र में आ गई है, जबसे उसका सीधा टॉयलेट से पानी निकालकर पीने वाला एक वीडियो सामने आया है।

लुओ सरनेम वाली यह युवती कथित तौर पर अपने मालिकों को प्रभावित करने के लिए इस हद तक गई थी। युवती को टॉयलेट के पानी (Toilet Water) से भरे एक प्लास्टिक कप से पानी पीते देखा जा सकता है।

इस वीडियो के सामने आने के बाद जब कंपनी के प्रतिनिधियों पर कर्मचारी को खुद को अपमानित करने के लिए प्रोत्साहित करने का आरोप लगा तो कंपनी के प्रतिनिधियों ने जोर देकर कहा कि केयरटेकर का यह कदम स्वैच्छिक था।

उन्होंने यह भी कहा कि इस युवती ने पिछले कुछ सालों में कई बार टॉयलेट का पानी पिया है। पूर्वी चीन के शानडोंग में स्थित ज़्हांगचेंग फ़र्टिलाइज़र टेक्नोलॉजी कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा, “यह उसका अपने काम में परफेक्शन दिखाने का तरीका है, जिससे वह दूसरों को बताना चाहती है कि वह अपने काम में कितनी समर्पित है।’

उन्होंने यह भी कहा, ‘वह दिखाना चाहती है कि उसे शौचालय की अपनी सफाई पर इतना भरोसा है कि वह शौचालय का पानी भी पी सकती है।’ इस वीडियो में भी पानी के कप को नीचे रखने के बाद केयरटेकर को यह कहते हुए सुना जा सकता है, ‘मुझे आशा है कि कंपनी के सभी पदों पर मौजूद लोग अपने काम को सर्वश्रेष्ठ तरह से कर सकते हैं।’

लुओ के सहयोगियों ने पुष्टि की है कि वह 2014 में इस नौकरी को शुरू करने के बाद से पूरी तरह से अपना काम करने के लिए प्रतिबद्ध है, और उसे कंपनी का “बेंचमार्क कर्मचारी” कहा जाता है। पत्रकारों से बात करते हुए, फर्टिलाइजर कंपनी के एक प्रवक्ता ने अपने इंप्लॉयर का बचाव किया। उन्होंने इस बात से भी इंकार किया कि किसी ने शौचालय से पानी पीने के लिए लुओ को मजबूर किया था।

कथित तौर पर महिला ने अपनी मर्जी से ऐसा किया, जैसा कि उसने पिछले दो वर्षों में कई बार किया है। हालांकि कुछ सोशल मीडिया यूजर्स ने कहा कि वे लुओ की अपनी नौकरी के प्रति समर्पण की भावना से प्रभावित हुए, लेकिन ज्यादातर ने उनके इस कृत्य को परेशान करने वाला और अपमानजनक पाया।

Related Articles

Back to top button
E-Paper