भाई दूज पर बहनों ने की भाईयों को तिलक लगाकर लम्बी उम्र की कामना

भारत ही एक मात्र ऐसा देश है, जहां पर सभी तैयार मिलझुल कर बनाए जाते है। भैया दूज का पर्व यहां बड़े हर्षोउल्लास व धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन बहने अपने भाईयों की आरती कर उनकी लम्बी उम्र के लिए कामना करती है। साथ ही भाई भी अपनी बहनों को जीवन भर सुरक्षा का वचन देते है।

भाई-बहन का यह पवित्र त्यौहार अपने आप में एक मिशाल है। इस दिन बहने भाईयों के लिए व्रत रखती है और उनके जीवन में सुख स्मृद्धि के लिए विशेष पूजा अर्चना भी करती है। सोमवार को भैया दूज का पर्व काफी उत्साह के साथ मनाया गया। सुबह ही बहनों ने अपने भाईयों की आरती उतारी और उनके लिए सुख शांति की कामना की।

दीपावली के बाद ही भैया दूज का पर्व मनाया जाता है। भाईयों ने अपनी बहनों को उपहार भी भेट किए। प्राचीन मान्यताओं के अनुसार शुक्ल पक्ष की द्वितीया को यमुना मईया के घर यजराज आए थे। यमुना मईया और यमराज भाई-बहन थे। यमुना मईया ने यमराज को माथे पर तिलक लगा कर आदर से खाना खिलाया और श्रद्धा से पूजा-अर्चना की तथा यमराज ने उनकी रक्षा करने की प्रतिज्ञा ली। इसलिए इसे यम द्वितीया भी कहते हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper