पाकिस्‍तान के मंत्री ने कबूल किया सच, पुलवामा हमले को बताया सबसे बड़ी कामयाबी

इस्‍लामाबाद। पाकिस्‍तान के मंत्री ने एक बार फिर अपने ही देश की पोल खोल कर रख दी है। दरअसल इमरान खान सरकार में मंत्री फवाद चौधरी ने स्‍वीकार किया है कि पुलवामा हमला पाकिस्‍तान की साजिश था। इसके साथ ही मंत्री फवाद चौधरी ने पुलवामा हमले को पाकिस्‍तान की बड़ी कामयाबी बताया है।

बता दें कि पिछले साल 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर विस्फोटकों से भरी गाड़ी के जरिए आतंकी हमला किया गया था और इस हमले में देश के 40 जवान शहीद हो गए थे। जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने आईईडी से भरी कार को सेना के काफिले से भिड़ा दिया था।

वहीं इससे पहले विंग कमांडर अभिनन्दन की रिहाई के मुद्दे पर वायुसेना के तत्कालीन प्रमुख एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने पाकिस्तानी सांसद के बयान को सही ठहराते हुए उस रात का पूरा वाकया बताया है। उन्होंने कहा कि मैंने अभिनंदन के पिता से वादा किया था कि हम उसे वापस जरूर लाएंगे। उस रात हमारी सैन्य मुद्रा आक्रामक थी और हम पाकिस्तान की फॉरवर्ड ब्रिगेड खत्म करने को तैयार थे, वे हमारी क्षमता जानते हैं। पाकिस्तान पर सैन्य के साथ-साथ कूटनीतिक दबाव भी बहुत ज्यादा था, इसलिए पड़ोसी ने खौफ में विंग कमांडर अभिनन्दन की रिहाई कर दी थी।

पुलवामा में 14 फरवरी को आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 से ज्यादा जवानों के शहीद होने के बाद भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक कर की थी। इस दौरान 27 फरवरी को भारतीय सीमा में घुसे पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों का पीछा करते हुए अभिनंदन एलओसी पार कर गए थे और पाकिस्तानी फाइटर प्लेन एफ-16 को मार गिराया था। इस दौरान उनका विमान क्रैश हो गया और पैराशूट से नीचे उतरते वक्त वह पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर में पहुंच गए। तभी पाकिस्तानी सेना ने उन्हें हिरासत में ले लिया था। इस दौरान पाकिस्तान ने उनसे भारतीय वायुसेना के बारे में कई राज उगलवाने की कोशिश की लेकिन उन्होंने पाकिस्तानी सेना की प्रताड़ना के बाद भी भारतीय सेना से सम्बंधित कोई भी राज नहीं उगला। 

भारत के विंग कमांडर अभिनन्दन की रिहाई पर पीएमएल-एन सांसद अयाज सादिक ने संसद में खुलासा किया कि विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने पीपीपी, पीएमएल-एन और सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा सहित संसदीय नेताओं के साथ एक बैठक में अभिनंदन को मुक्त करने के लिए कहा था। पाकिस्तान के पूर्व स्पीकर ने संसद में खुलासा किया था कि भारत के हमले के डर से जनरल बाजवा के पैर कांप रहे थे और विदेश मंत्री कुरैशी के माथे पर पसीना था। उस वक्त विदेश मंत्री महमूद शाह कुरैशी ने विपक्ष से कहा था कि भारत पाकिस्तान पर हमला करने वाला है, इसलिए ‘अभिनंदन’ को छोड़ना जरूरी है। कुरैशी ने कहा कि खुदा का वास्ता, अब इसको वापस जाने दें, क्योंकि 9 बजे रात को हिन्दुस्तान पाकिस्तान पर हमला करने वाला है। 

पूर्व वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल (सेवानिवृत्त) बीएस धनोआ ने कहा कि अभिनंदन के पिता और मैंने एक साथ देश की सेवा की। इसलिए जब अभिनंदन को पकड़ा गया तो मैंने उनसे कहा कि हम अभिनंदन को जरूर वापस लायेंगे। उन्होंने बताया कि कारगिल युद्ध के दौरान मेरे फ्लाइट कमांडर आहूजा को पकड़ लिया गया और उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई। मेरे दिमाग में यही चल रहा था। पाकिस्तान पर मुख्य दबाव कूटनीतिक और राजनीतिक था लेकिन हमारी सैन्य मुद्रा ने भी पाकिस्तान पर दबाव बनाया हुआ था। धनोआ ने पाकिस्तानी सांसद के उस बयान को सही ठहराया, जिसमें वे कह रहे हैं कि भारत के हमले के डर से जनरल बाजवा के पैर कांप रहे थे और विदेश मंत्री कुरैशी के माथे पर पसीना था।

धनोआ ने बताया कि उस रात हमारी सैन्य मुद्रा बहुत आक्रामक थी। अगर 27 फरवरी, 2019 को पाकिस्तान की तरफ से सैन्य दुस्साहस हुआ होता या हमारे कुछ सैन्य प्रतिष्ठानों पर हमला हो गया होता तो हम उनके फॉरवर्ड ब्रिगेड का सफाया करने की स्थिति में थे। वे जानते हैं कि हमारी क्षमता क्या है। उन्होंने कहा कि बालाकोट में हुई एयर स्ट्राइक ने जैश-ए-मोहम्मद और उनके पाकिस्तानी संचालकों में डर पैदा कर दिया था कि भारत उन्हें पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) और पाकिस्तान में भी मार सकता है। भारत के सख्त रुख ने पाकिस्तान को अभिनंदन वर्धमान को सही सलामत भारत भेजने पर मजबूर कर दिया था। एक मार्च को वह अटारी-वाघा बॉर्डर से भारत वापस आए थे।  ​​

Related Articles

Back to top button
E-Paper