पाकिस्तान: पीडीएम की बैठक में अविश्वास प्रस्ताव पर होगी चर्चा

पाकिस्तान लोकतांत्रिक आंदोलन ( पीडीएम) के अध्यक्ष मौलाना फजलुर रहमान ने विपक्षी गठबंधन में शामिल दलों के प्रमुखों की एक बैठक 25 जनवरी को बुलाई है। इसमें प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के विकल्प पर विचार किया जाएगा। डॉन समाचार पत्र ने गुरुवार को यह जानकारी दी।
मौलाना ने पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष और नेशनल असेंबली में विपक्ष के नेता शहबाज शरीफ से मुलाकात के बाद पत्रकारों से हुई बातचीत में यह घोषणा की। इस मामले में मौलाना फजल ने पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के सहयोगी दलों से भी समर्थन मांगा है।
पीडीएम के दो प्रमुख दल पीएमएल-एन और जेयूआई-एफ ने पहली बार संसद में सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव प्रस्तुत करने की बात कही है। इससे पहले दोनों दल हमेशा पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के विचारों का विरोध करते रहे हैं, जो कभी विपक्षी गठबंधन में शामिल थे।
पीपीपी ने इस उम्मीद के साथ पीडीएम में शामिल दलों को पंजाब के मुख्यमंत्री उस्मान बुजदार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश करने का सुझाव दिया था कि अगर पार्टी को पंजाब में सरकार बनाने का मौका मिलता है तो चौधरी परवेज इलाही के नेतृत्व वाली पीएमएल-क्यू भी उनके इस कदम का समर्थन करेगी।
पीपीपी ने यह भी प्रस्ताव किया था कि प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ इस तरह के प्रस्ताव को आगे बढ़ाने से पहले परीक्षण के रूप में नेशनल असेंबली के अध्यक्ष असद कैसर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया जा सकता है।
हालांकि, पीएमएल-एन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष शाहिद खाकान अब्बासी ने पहले कहा था कि उनकी पार्टी तब तक केंद्र या पंजाब में पीटीआई सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने पर विचार नहीं करेगी, जब तक कि यह स्पष्ट नहीं हो जाता कि देश में संविधान सर्वोच्च है और पूरी प्रणाली लोकतांत्रिक सिद्धांतों और मानदंडों के अनुसार बिना किसी हस्तक्षेप के चलाई जा रही है।
श्रद्धा.अरिजीता, सोनिया

Related Articles

Back to top button
E-Paper