पूर्वांचल अब विकास गाथाओं से गौरवान्वित हो रहा: मुख्यमंत्री

पूर्वांचल अब विकास गाथाओं से गौरवान्वित हो रहा: मुख्यमंत्री

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज जनपद वाराणसी में आयोजित पूर्वांचल सम्मान समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि पूर्वांचल अब विकास गाथाओं से गौरवान्वित हो रहा है। हाल के वर्षों में इस क्षेत्र ने विकास व उपलब्धियों के विविध आयामों पर खुद को स्थापित किया है और कर भी रहा है। विकास की इस धुरी पर स्थित वाराणसी ‘बदलता बनारस’ से ‘बदल गया बनारस’ की ओर तेजी से बढ़ रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2018 में प्रदेश के परम्परागत उद्यम को बढ़ाने के लिए अपने टीम को निर्देशित किया था। उत्तर प्रदेश के 75 जिलों के यूनीक प्रोडक्ट को चिन्हित किया गया और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मार्गदर्शन में उत्तर प्रदेश में ‘एक जनपद, एक उत्पाद योजना’ लागू की गई। यह योजना अन्य प्रदेशों के लिए मानक बनी। प्रधानमंत्री जी अन्य प्रदेशों से उत्तर प्रदेश की इस तर्ज पर कार्य करने को कहते हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश एक्सपोर्ट हब बन गया है। ओ0डी0ओ0पी0 में अभी और भी सम्भावनाएं हैं। इस उद्यम में बैंकों को भी ऋण देने में कोई परेशानी नहीं होती। उन्होंने कहा कि मार्च, 2017 से पहले उत्तर प्रदेश की क्या स्थिति थी, यह लोग भली-भांति जानते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश कोरोना के दौर से गुजर रहा है। प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में कोविड प्रबन्धन का बेहतरीन कार्य हुआ। उन्होंने कहा कि अमेरिका सुपर पावर है, लेकिन कोविड प्रबन्धन में वह भारत से कई मायने में पीछे रहा। भारत की आबादी अमेरिका से 4 गुना है, लेकिन कोविड के दौरान अमेरिका में मौतें भारत की अपेक्षा डेढ़ गुना अधिक हुई। पहले जब भी महामारी आती थी, देश में उसकी दवा नहीं होती थी। लेकिन प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में कोरोना महामारी के दौरान भारत ने अपने 2-2 वैक्सीन विकसित किए। अब तक देश में 60 करोड़ से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन कराया जा चुका है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में 80 करोड़ लोगों को निःशुल्क राशन दिया जा रहा है, जिसमें 15 करोड़ उत्तर प्रदेश के लोग हैं। आज उत्तर प्रदेश, देश की दूसरी अर्थव्यवस्था है। उद्यम स्थापना एवं निवेश के क्षेत्र में राष्ट्रीय रैकिंग में उत्तर प्रदेश दूसरे स्थान पर है। प्रदेश में निवेश की बेहतर सुविधाएं उपलब्ध करायी गई हैं। वर्तमान में राज्य में 03 एक्सप्रेस-वे पर कार्य चल रहा है। मेरठ से प्रयागराज तक बनने वाले गंगा एक्सप्रेस-वे को वाराणसी तक लाने का प्रयास हो रहा है। प्रधानमंत्री जी माह सितम्बर अथवा अक्टूबर में पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे जनता को समर्पित करेंगे। बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का लोकार्पण 15 सितम्बर तक होगा।

मुख्यमंत्री ने उत्तर प्रदेश की विकास गाथा का उल्लेख करते हुए कहा कि आज लोगों के जेहन में यह बात है कि जहां से फोरलेन सड़क मिल जाए, तो समझो उत्तर प्रदेश में आ गए। सबसे अधिक देशी-विदेशी पर्यटक उत्तर प्रदेश में आते हैं। प्रदेश में 01 करोड़ 38 लाख गरीब लोगों को निःशुल्क विद्युत कनेक्शन दिए गए हैं। प्रदेश के लोगों के जीवन को सुगम बनाने का प्रयास युद्ध स्तर पर हुआ है। उन्होंने कहा कि देश का नया उत्तर प्रदेश आज लोगों के सामने हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि काशी की आत्मा को बरकरार रखते हुए नया कलेवर दिया जा रहा है। काशी ही नहीं अयोध्या, मथुरा-वृन्दावन, विन्ध्य आदि को बढ़ाया जा रहा है। उत्तर प्रदेश सकारात्मक रूप से आगे बढ़ रहा है। राज्य सरकार ने बन्द चीनी मिलों को संचालित कराया। चीनी मिलें केवल गन्ना पेरने तक सीमित न रहें, उसका भी प्रयास किया गया। चीनी मिलों को एथनॉल प्लाण्ट लगाने की अनुमति दी गई है। वर्ष 2021-2022 तक की 84 फीसदी तक के गन्ना मूल्य का भुगतान कर दिया गया है। नया सीजन आने तक शेष गन्ना किसानों का भी भुगतान कर दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी के बाद वर्तमान सरकार द्वारा किसानों के लिए उत्तर प्रदेश में जितने कार्य किए गए हैं, उतने पहले कभी नहीं हुए। कृषि सिंचाई योजना हो, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, खेती किसानी के क्षेत्र में जो तकनीक अपनायी गई, वह अद्भुत है। वर्तमान राज्य सरकार ने सत्ता में आते ही सबसे पहले किसानों की कर्ज माफी का काम किया। उन्होंने कहा कि किसानों से उनकी उपज सीधे क्रय करने के उपरान्त, उसका मूल्य सीधे उनके बैंक खाते में डी0बी0टी0 के माध्यम से पहुंचाने का कार्य प्रदेश में पहली बार हो रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आर्सेनिक और फ्लोराइड प्रभावित क्षेत्रों में शुद्ध पेयजल की आपूर्ति के उद्देश्य से हर घर जल योजना लागू की जा रही है। बुन्देलखण्ड में लोग बरसात के पानी पर निर्भर करते थे। वहां के 07 जनपदों में ‘हर घर जल योजना’ पूर्ण हो चुकी है। 3,000 गांवों में फ्लोराइड और आर्सेनिक के कारण हो रही दिक्कतों को दूर करने के लिए ‘हर घर जल योजना’ के माध्यम से जल पहुंचाने के काम तेजी से हो रहा है। प्रत्येक व्यक्ति के लिए शुद्ध पेयजल की आपूर्ति की व्यवस्था की जा रही है। वर्षों से लम्बित बाणसागर परियोजना पूर्ण हो चुकी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए पारम्परिक आयोजनों को नया रूप दिया जा रहा है। काशी में देव दीपावली के अवसर पर एक करोड़ से ज्यादा लोग आए थे। पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से राज्य सरकार प्रयागराज कुम्भ, बरसाना में रंगोत्सव और अयोध्या में दीपोत्सव जैसे आयोजनों को निरन्तर आगे बढ़ा रही है। जी0आई0 से जुड़े उत्पादों से लोगों को जोड़ने का कार्य किया गया है। त्योहारों में अतिथियों को गिफ्ट के रूप में जी0आई0 उत्पाद दिए जाने की व्यवस्था की गई है। कन्नौज के इत्र की खुशबू को देश-दुनिया में पहुंचाने का कार्य हो रहा है। वहां के लोग इत्र से अपनी पहचान बढ़ा रहे हैं।

समारोह के दौरान मुख्यमंत्री जी ने विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने वाले महानुभावों को सम्मानित किया।

इस अवसर पर पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री अनिल राजभर, पर्यटन एवं संस्कृति राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ0 नीलकंठ तिवारी, स्टाम्प तथा न्यायालय शुल्क, पंजीयन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रविन्द्र जायसवाल, अपर मुख्य सचिव एम0एस0एम0ई0 एवं सूचना नवनीत सहगल सहित अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

Related Articles

Back to top button
E-Paper