असम की रैली में राहुल गांधी का करारा वार, बोले- ‘हम दो, हमारे दो…बाकी सब मर लो’ लागू नहीं होने देंगे CAA

राहुल गांधी

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने असम के शिवसागर में रविवार को एक रैली को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने असम के पूर्व मुख्यमंत्री और दिवंगत कांग्रेस नेता तरुण गोगोई की जमकर तारीफ की तो मोदी सरकार को आड़े हाथों लिया। राहुल गांधी ने कहा कि असम को रिमोट से नहीं चलाया जा सकता है। असम को यहां का सीएम चाहिए जो राज्य की जरूरत के हिसाब से चलाए।

बहरहाल, राहुल गांधी ने कहा कि असम बाहर से आने वालों के लिए छोटा प्रदेश है। अलग धर्म, अलग जाति, अलग भाषाएं। जब वह असम आते थे तो हर यात्रा पर तरुण गोगोई असम के बारे में उन्हें नई जानकारी देते थे। जो जानकारी थी, उसे तरुण गोगोई और बढ़ाते थे। उन्होंने कहा कि हर बार जब भी वह असम आते थे तो कुछ सीखकर जाते थे।

राहुल गांधी ने कहा, मुझे बताया गया कि जो पुरस्कार तरुण गोगोई को दिया गया, उसी लिस्ट में प्रधानमंत्री कार्यालय के एक नौकरशाह का नाम था। हिंदुस्तान की सरकार ने तरुण गोगोई और असम का अपमान किया। उनके साथ प्रधानमंत्री की हां में हां मिलाने वाले ब्यूरोक्रेट का नाम शामिल कर दिया। मुझे बहुत खराब लगा।

उन्होंने कहा कि असम को दुनिया की कोई ताकत नहीं तोड़ सकती। जो असम को को छूने की कोशिश करेगा, जो असम को बांटने की कोशिश करेगा, उसको असम की जनता और कांग्रेस पार्टी मिल कर सबक सिखाएगी। राहुल गांधी ने कहा कि असम में अवैध इमिग्रेशन का मसला है। लेकिन असम के लोग इतने समझदार हैं कि वो उसे सुलझा लेंगे। 

हुंकार भरते हुए राहुल गांधी ने कहा कि चाहे कुछ भी हो जाए CAA (नागरिकता संशोधन कानून) लागू नहीं होगा। राहुल गांधी ने गमछा दिखाया जिस पर CAA लिखा था और उस पर क्रॉस किया गया था। राहुल गांधी ने कहा, ‘हम दो हमारे दो’ कान खोलकर सुन लो कि CAA नहीं होगा। राहुल गांधी ने 100-50 रुपये के नोट और सिक्कों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि वह इससे बताएंगे कि बीजेपी देश में सीएए इसलिए लाना चाहती है।

मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कांग्रेस सांसद ने कहा कि असम के मजदूरों को 167 रुपये मिलते हैं और गुजरात के कारोबारियों को टी गार्डन दिया जाता है। वो जानते हैं कि असम को तोड़कर ही वह यहां से चोरी कर सकते हैं। हम असम के चाय बागान मजदूरों को 200 और अधिक देंगे। श्रमिकों को प्रति दिन 365 रुपये मजदूरी देने का वादा करते हैं। ये पैसा कहां से आएगा? यह गुजरात के व्यापारियों से आएगा।

हम दो, हमारे दो…बाकी सब मर लो’

राहुल गांधी ने कहा, ‘हम दो, हमारे दो…बाकी सब मर लो’। असम से सब कुछ लो। देश को सिर्फ चार लोग चला रहे हैं। सब कुछ बोले बजट में, लेकिन किसानों को कुछ नहीं दिया। असम में जाओ, बांटों और जो है वह ले लो…बस इतना ही। जो आपका है वह यह चाहते हैं। वह जानते हैं कि असम में आग लगा दी तो वो जो चाहें वो ले सकते हैं। राहुल गांधी ने कहा कि असम बंट गया तो किसी को नुकसान नहीं होगा, सिर्फ और सिर्फ असम को नुकसान होगा। इससे पूरे देश को नुकसान होगा। असम छोटा प्रदेश नहीं है, यह देश के गुलदस्ते का एक सुंदर फूल है। देश को असम की जरूरत है।

बिहार : पैक्स चुनाव की तैयारी पूरी, 15 फरवरी को 261 मतदान केंद्रों पर होगा मतदान

रोजगार देने का वादा किया

राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस कमजोर लोगों, गरीबों, छोटे व्यापारियों, मजदूरों की पार्टी है। जब हम सत्ता में आएंगे तो जो नफरत फैलाई जा रही है वो खत्म होगी। हम सब धर्म और जाति के लोगों की रक्षा करेंगे। 2004 से 2014 तक हिंदुस्तान में तेज आर्थिक विकास हुआ। करोड़ों लोगों को हमने गरीबी से निकाला। युवाओं… हम सभी घबराहट मिटा देंगे। असम में बेरोजगारी को खत्म करेंगे। जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि रिमोट से टेलीविजन चल सकता है लेकिन असम नहीं चल सकता है। आपका चीफ मिनिस्टर असम का होना चाहिए। आपके चीफ मिनिस्टर को असम के लिए काम करने चाहिए। आज के चीफ मिनिस्टर दिल्ली गुजरात के इशारे पर चलते हैं। हमें इसीलिए इस सरकार को हटाना है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper