रेलवे का ऐलान, अब 9 महीने तक रद्द टिकटों का मिलेगा Refund, जानिए शर्तें

लोकल ट्रेनें

भारतीय रेलवे ने एक बड़ा फैसला लिया है। जहां रेलवे ने काउंटर से बुक कराए गए टिकटों को रद्द कराने और उनका रिफंड पाने की टाइमिंग को बढ़ा दिया है। बता दें कि कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन के दौरान बुक कराए गए टिकटों का रिफंड पाने की टाइमिंग में दूसरी बार बदलाव करते हुए इसे 9 महीने तक बढ़ा दिया है।

लखनऊ में इस दिन से होगी महिला सैन्य पुलिस के लिए खुली भर्ती रैली, जारी किए गए प्रवेश पत्र

इन रेल गाड़ियों पर नियम होगा लागू

दरअसल, उन्हीं लोगों के टिकट का रिफंड मिलेगा जिन्होंने 21 मार्च, 2020 से 31 जुलाई, 2020 के बीच यात्रा के लिए टिकट बुक किए थे। रेलवे के अनुसार अगर आपने 30 जुलाई के लिए ट्रेन टिकट बुक की थी तो उसे आप अप्रैल तक रद्द करवाकर रिफंड पा सकते हैं। यह नियम निर्धारित समय सारणी वाली केवल उन रेल गाड़ियों के लिए खरीदे गए टिकटों पर ही लागू होगा जिन्हें रेलवे द्वारा रद्द किया गया था।

IRCTC पोर्टल के जरिए बुक टिकट के लिए

जिन यात्रियों ने IRCTC पोर्टल के जरिए टिकट बुक कराए थे, उनका रिफंड प्रोसेस ऑटोमैटिक पूरा हो गया। रेलवे ने बताया कि हेल्पलाइन नंबर 139 या आईआरसीटीसी की वेबसाइट के माध्यम से काउंटर टिकट रद्द कराने की स्थिति में भी टिकट को किसी भी रेलवे काउंटर पर जमा करने की समय-सीमा को यात्रा की तिथि से 9 महीने तक के लिए बढ़ा दिया है।

बर्ड फ्लू के मद्देनज़र माघ मेले में विशेष सतर्कता बरतने की आवश्यकता : सीएम योगी

गौरतलब है कि कोरोना वायरस महामारी के खतरे को देखते हुए 22 मार्च से ट्रेनों की सेवाओं को बंद कर दिया गया था। इसके बाद रेलवे ने टिकट रद्द कराने और किराए की वापसी को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए थे जिसके मुताबिक, रेलवे द्वारा रद्द की गई गाड़ियों के लिए पीआरएस काउंटर टिकट को जमा कराने की समय सीमा को 3 दिन से बढ़ाकर (यात्रा का दिन छोड़कर) 6 महीने कर दिया गया था और 139 या आईआरसीटीसी की वेबसाइट से टिकट रद्द कराए जाने की स्थिति में किसी भी काउंटर से रिफंड प्राप्त करने की समय-सीमा को भी बढ़ाकर कर यात्रा की तिथि से 6 महीने कर दिया गया था।

Related Articles

Back to top button
E-Paper