आईआरसीटीसी से सुविधा शुल्क में हिस्सेदारी का निर्णय रेलवे ने लिया वापस, डूबे हजारों करोड़

नयी दिल्ली। भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम लिमिटेड(आईआरसीटीसी) के सुविधा शुल्क में 50 फीसदी हिस्सेदारी मांगने वाले निर्णय को रेल मंत्रालय ने वापस ले लिया है। इस संबंध में कल आदेश जारी किया गया था लेकिन आईआरसीटीसी के निवेशक इस निर्णय से आहत हुये थे। इसके कारण उसके शेयर में भी भारी गिरावट दर्ज की गयी थी। आईआरसीटीसी को एक नवंबर से सुविधा शुल्क में 50 फीसदी हिस्सेदारी रेलवे को देने के लिए कहा गया था।

आईआरसीटीसी

वित्त मंत्रालय के तहत कार्यरत विनिवेश एवं लोक संपदा प्रबंधन विभाग (दीपम) के सचिव तुहिन कांत पांडेय ने आज इस संबंध में एक टि्वट कर यह जानकारी देते हुये कहा कि रेलवे अपने इस निर्णय को वापस ले लिया है।

Rajasthan News : चिकित्सकों की लापरवाही से किशोरी की मौत, परिजन लगा रहे आरोप

आईआरसीटीसी ने कल शेयर बाजार को सूचित किया था कि रेलवे ने उसे सुविधा शुल्क के तौर पर संग्रहित होने वाले राजस्व में से 50 प्रतिशत उसे देने के लिए कहा है जो एक नवंबर से प्रभावी होगा। रेलवे के इस निर्णय को वापस लेने की घोषणा के बावजूद शुक्रवार को आईआरसीटीसी का शेयर 4.85 प्रतिशत लुढ़ककर कारोबार कर रहा है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper