सडक निर्माण घोटाला: महाप्रबंधक सहित अन्य पर प्रकरण दर्ज

मध्यप्रदेश के जबलपुर के आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ (ईओडब्ल्यू) ने छिडवाडा जिले में में ग्रामीण सडक योजना के तहत बनाई गयी सडकों में हुए भ्रष्टाचार के मामला में मध्यप्रदेश ग्रामीण सडक विकास प्राधिकरण के महाप्रबंधक सहित अन्य के खिलाफ पांच प्रकरण दर्ज किए हैं।
आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ जबलपुर के पुलिस अधीक्षक देवेन्द्र सिंह राजपूत ने आज बताया कि छिंडवाडा में ग्रामीण सडक योजना के तहत सडक निर्माण में भ्रष्टाचार की शिकायत प्राप्त हुई थी। शिकायत की जांच में पाया गया कि मोहरिया से बैलखेडी, करसिवार बांस से छातेआम गोप से बारूखेडा एवं टी 11 से धारू तक सडक निर्माण किया जाना था। इस पैकेज के अंतर्गत निर्माण कार्य में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर ठेकेदार को लगभग 26 लाख 35 हजार रूपये का अतिरिक्त भुगतान किया गया था।
एसपी श्री राजपूत ने बताया कि ईओडब्ल्यू ने मप्रग्रसविप्रा के महाप्रबंधक एच के चंद्रवंशी, सहायक प्रबंधक एम के वर्मा, उपयंत्री राजेश मेश्राम, एआरई किशोर दास गुप्ता, एफई अतुल कनौजिया, तत्कानील मुख्य प्रबंधक डी के पचौरी, ठेकेदार मेसर्स राज सिंह एण्ड कंपनी बालाघाट तथा कंसल्टेन्सी फर्म नायक सिंडीकेट भोपाल के टीम लीडर प्रमोद श्रीवास्तव खिलाफ के विभिन्न धाराओं तथा भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया है।
इसी तरह डुगरिया भरदागढ से चुरनी चौगान मार्ग, करमोहनी से भवेलीकला मार्ग, काली छापर से नादगा पिपरिया मार्ग के सडक निर्माण पैकेज में ठेकेदार को फर्जी दस्तावेज के आधार पर लगभग 76 लाख 22 हजार रूपये का अतिरिक्त भुगतान किया गया है। ईओडब्ल्यू ने मप्रग्रसविप्रा के महाप्रबंधक एच के चंद्रवंशी, सहायक प्रबंधक एम के वर्मा, उपयंत्री राजेश मेश्राम, एआरई किशोर दास गुप्ता, एफई अतुल कनौजिया, तत्कानील मुख्य प्रबंधक डी के पचौरी, ठेकेदार मेसर्स राज सिंह एण्ड कंपनी बालाघाट तथा कंसल्टेन्सी फर्म नायक सिंडीकेट भोपाल के टीम लीडर प्रमोद श्रीवास्तव खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है।
वहीं, अमरवाडा खउआ से लाटगांव मार्ग के निर्माण कार्य में फर्जी दस्तावेज के आधार पर ठेकेदार को लगभग 7 लाख 27 हजार रूपये का अतिरिक्त भुगतान किया गया है। जांच के बाद ईओडब्ल्यू ने मप्रग्रसविप्रा के महाप्रबंधक एच के चंद्रवंशी,सहायक प्रबंधक जे पी रोहित, उपयंत्री रूपेश चौधरी, एआरई राम गोपाल कटारे, एफई कमलेश विश्वकर्मा, तत्कानील मुख्य प्रबंधक डी के पचौरी, ठेकेदार मेसर्स भगवती इंटरनेशनल मुरैना तथा कंसल्टेन्सी फर्म नायक सिंडीकेट भोपाल के टीम लीडर प्रमोद श्रीवास्तव के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है।
खिरकी घाट से चारगांव सडक निर्माण में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर ठेकेदार को लगभग 39 लाख 80 हजार रूपये का अतिरिक्त भुगतान किया गया है। जांच के बाद ईओडब्ल्यू ने मप्रग्रसविप्रा के महाप्रबंधक एच के चंद्रवंशी, सहायक प्रबंधक जे पी रोहित , उपयंत्री राजेश मेश्राम, एआरई किशोरी दास गुप्ता, एफई अतुल कनौजिया, तत्कानील मुख्य प्रबंधक डी के पचौरी, ठेकेदार मेसर्स सुरेश चंद्र गुप्ता तथा कंसल्टेन्सी फर्म नायक सिंडीकेट भोपाल के टीम लीडर प्रमोद श्रीवास्तव के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है।
नवेगांव मेहदावीर से हरियागढ, आकिया से धोबीघाट मार्ग के सडक निर्माण में फर्जी दस्तावेज के आधार पर ठेकेदार को लगभग 6 लाख 10 हजार रूपये का अतिरिक्त भुगतान किया गया। जांच के बाद ईओडब्ल्यू ने मप्रग्रसविप्रा के महाप्रबंधक एच के चंद्रवंशी,सहायक प्रबंधक जे पी रोहित, उपयंत्री राजेश मेश्राम, एआरई रूपराज अग्रवार, एफई अरविंद पवार, तत्कानील मुख्य प्रबंधक डी के पचौरी, ठेकेदार मेसर्स हरगोविंद पुर्विया तथा कंसल्टेन्सी फर्म नायक सिंडीकेट भोपाल के टीम लीडर प्रमोद श्रीवास्तव के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper