समाजवादी पार्टी कर सकती है 2022 में गठबंधन, मौजूदा सरकार पर दिखाए तीखे तेवर

2022 का चुनाव सिर्फ यूपी का चुनाव नहीं है. यह चुनाव देश का भाग्य बनेगा भाजपाइयों ने अभी किसानों को कुचला है इन्हे नहीं रोका गया तो ये एक दिन संविधान को भी कुचल देंगे। यह बातें यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश सिंह यादव ने रविवार को सहारनपुर में जनसभा में कही।

समाजवादी पार्टी

संभलकर लखनऊ आने की दी हिदायत

अखिलेश यादव रविवार को सहारनपुर में समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता रहे स्वर्गीय चौधरी यशपाल सिंह की 100वीं पुण्यतिथि पर श्रद्धासुमन अर्पित करने पहुंचे थे। इसके बाद तीतरों में विशाल जनसभा में अखिलेश यादव ने कहा कि इस सरकार ने पेट्रोल की कीमतों को 100 रुपये लीटर पहुंचा दिया है। आगे यह सरकार कीमतों को 200 तक भी पहुंचा सकती है। कुछ शहरों के नाम बदलने पर चुटकी लेते हुए कहा कि यूपी के मुख्यमंत्री नाम बदलने में एक्सपर्ट हैं। अगर लखनऊ जाओ तो संभलकर जाना। अगर लखनऊ में आपकी मुख्यमंत्री से मुलाकात हो गई तो ऐसा भी हो सकता है कि वो आपका भी नाम बदल दें।

किसान न्याय रैली में नही हुई स्थानीय किसानों की बात, जताई नाराज़गी

युवाओं को बरगला रही है सरकार

अपने संबोधन में अखिलेश यादव ने तीन कृषि कानूनों के जरिए किसानों को, रोजगार के नाम पर युवाओं को और प्राइवेटाईजेशन के नाम पर व्यापारियों को साधने की कोशिश करते हुए कहा कि व्यापार हमें जोड़ता है लेकिन ये सरकार तोड़ने वाली है, इसलिए यह सरकार व्यापार कारोबार पर बात नहीं करती सिर्फ धर्म पर बात करती है। धर्म पर बात करके हमारी गंगा जमुनी तहजीब को चोट देने का षडयंत्र रचती है।

कर सकते हैं गठबंधन

अखिलेश यादव ने गठबंधन पर कहा कि हम गठबंधन करेंगे, लेकिन अपने लोगों के सम्मान की पूरी रक्षा की जाएगी। यानि 2022 के चुनाव में यदि समाजवादी पार्टी गठबंधन करती है तो अपनी शर्तों पर करेगी। अखिलेश ने कहा कि जो लोग कुर्सी पर बैठे हैं, उनके लोगों का कारनामा लखीमपुर में देखा गया है, जहां किसानों को कुचल दिया गया। उन्हें गाड़ी के टायरों से कुचल दिया गया। किसानों को तो कुचला ही है, वे कानून को भी कुचलने को तैयार हैं। जो लोग कानून को कुचल सकते हैं, किसान को कुचल सकते हैं, उन्हें संविधान को कुचलने में देर नहीं लगेगी।

किसानों पर दिया ये बयान

किसानों को साधने की कोशिश करते हुए उन्होंने कहा कि किसानों को मवाली कहा जा रहा है, इनका बस चले तो ये आतंकवादी भी कह दें। बाद में भीड़ के अंदर जोश भरते हुए अखिलेश ने कहा कि ये यूपी के लोग हैं। अगर सत्ता देकर देश की कुर्सी पर बैठाना जानते हैं तो उतारना भी जानते हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper