सीतापुर : छात्रों को 26 मार्च को समर्पित होगी ‘अटल टिंकरिंग लैब’

सीतापुर। भारत सरकार के नीति आयोग की महात्वाकांक्षी योजना के तहत जिले में पहली अटल टिंकरिंग लैब की स्थापना आनन्दी देवी सरस्वती विद्या मंदिर इण्टर कॉलेज में हुयी है। अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित इस प्रयोगशाला में विज्ञान के विद्यार्थी ज्ञानोपार्जन कर सकेंगे। इस लैब का प्रयोग आनन्दी देवी सरस्वती विद्या मंदिर सहित जिले के सभी विद्यालयों के छात्र-छात्राएं कर सकते हैं। अटल टिंकरिंग लैब का उदघाटन  26 मार्च को होगा।

विद्यालय के प्रबन्धक श्रीराम रस्तोगी व प्रधानाचार्य श्रवण कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि उद्घाटन अवसर पर मुख्य अतिथि के रुप मे विद्या भारती के क्षेत्रीय संगठन मंत्री हेमचन्द्र मौजूद रहेंगे, जबकि विशिष्ट अतिथि के रूप में आरएसएस के प्रांत प्रचारक कौशल कुमार, सीतापुर सांसद राजेश वर्मा, जिलाधिकारी विशाल भारद्वाज मौजूद रहेंगे। 26 मार्च को यह आयोजन सुबह साढ़े दस बजे होगा।

जानिए क्या है ‘अटल टिंकरिंग लैब’

अटल टिंकरिंग लैब भारत सरकार द्वारा देश की शिक्षा व्यवस्था में पैराडाइम शिफ्ट लाने के मकसद से लांच की गई थी। छात्रों के बीच इनोवेशन, क्रिएटिविटी और वैज्ञानिक पहलुओं को बढ़ावा देना इसका मुख्य मकसद है। एडोबी, अमेज़न, इंटेल, माइक्रोसॉफ्ट और आईबीएम जैसी दिग्गज अंतर्राष्ट्रीय टेक कंपनियां मोदी सरकार की अटल इनोवेशन मिशन के तहत साझेदार हैं और इसी योजना के तहत अटल टिंकरिंग लैब की शुरूआत की गई है।

क्या होंगी सुविधाएं

आनंन्दी देवी सरस्वती विद्या मंदिर के प्रधानाचार्य श्रवण कुमार श्रीवास्तव ने हिन्दुस्थान समाचार से बताया कि यह लैब थ्रीडी प्रिंटिंग, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और रोबोटिक्स के नए तकनीकों से छात्रों को रूबरू होने का अवसर देता है। अटल टिंकरिंग लैब बच्चों को 21 वीं शताब्दी के जरूरी स्किल्स और उनसे मुखातिब होने का मौका प्रदान करेगा। बच्चे इसमे कम्प्यूटर के माध्यम से किसी भी प्रकार के मॉडल बनाने का कार्य कर सकते हैं। श्री श्रीवास्तव ने बताया कि जिले में यह पहली लैब होगी इसमें अन्य विद्यालयों के छात्र,छात्राएं भी भाग ले सकते हैं। इसके लिए उन्हें रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

Related Articles

Back to top button
E-Paper