सोनभद्र: बिजली कर्मियों ने मशाल जुलूस निकाल निजीकरण का किया विरोध

बिजली

सोनभद्र। पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के विघटन, निजीकरण के विरोध में पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत 28 सितंबर को जनपद मुख्यालय सहित ओबरा विद्युत गृह, पिपरी जल विद्युत परियोजना एवं अनपरा विद्युत उत्पादन निगम के कर्मचारियों और अभियंताओं ने विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उत्तर प्रदेश के बैनर तले समूह में सरकार और पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए मशाल जुलूस निकाल इस लड़ाई को अंजाम तक पहुंचाने का संकल्प दोहराया।

ये भी पढ़ें- सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में CBI ने दिया ये बड़ा बयान

उक्त अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम का निजी करण किसी भी प्रकार से प्रदेश व आम जनता के हित में नहीं है। निजी कंपनी मुनाफे के लिए काम करती है जबकि पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम बिना भेदभाव के किसानों और गरीब उपभोक्ताओं को निर्बाध बिजली आपूर्ति कर रहा है। निजी कंपनी के अधिक राजस्व वाले वाणिज्यिक और औद्योगिक उपभोक्ताओं को प्राथमिकता पर बिजली देगी।

ग्रेटर नोएडा और आगरा में निजी करण की विफलता को देखते हुए पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के निजी करण का प्रस्ताव हर हाल में रद्द किया जाना चाहिए, परंतु प्रबंधन का हठवादी व दंडात्मक रवैया बना हुआ है, जिससे बिजली कर्मियों में भारी गुस्सा है। मंगलवार 29 सितंबर को 2:00 से 5:00 बजे सायं तक कार्य बहिष्कार कर विरोध किया जाएगा और 5 अक्टूबर से पूर्ण कार्य बहिष्कार व विरोध शुरू होगा।

ये भी पढ़ें- लोन मोरेटोरियम केस : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को दिया 5 अक्‍टूबर तक का समय

जनपद मुख्यालय को इं. रामेंद्र पांडे इं. सर्वेश कुमार, वीरेश सिंह धर्मेंद्र कुमार सिंह एसके सिंह अमित कुमार गुप्ता अजय सिंह भोला यादव रामाश्रय यादव अंकित श्रीवास्तव आशीष कुमार सिंह नंदलाल ओमप्रकाश शिवम संतोष कुमार दुबे सुजीत पाठक व विनय गुप्ता सहित भारी संख्या में कर्मचारी व अभियंता आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

इसी तरह ओबरा तापीय परियोजना में कर्मचारियों ने रामदास होटल के पास से मशाल जुलूस प्रारंभ कर दिया कि अतिथि गृह वीआईपी रोड होते हुए सुभाष चंद्र बोस प्रतिमा तक गए जुलूस में इं. अदालत वर्मा, अभय प्रताप सिंह, शशि कांत श्रीवास्तव, अजय सिंह, दिनेश यादव, राम यज्ञ मौर्या, शाहिद अख्तर आदि सैकड़ों की संख्या में कर्मचारी व अभियंता सरकार व निगम विरोधी नारेबाजी करते चल रहे थे।

Related Articles

Back to top button
E-Paper