बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता चंद्रभूषण पांडेय का बयान, यूपी में कानून राज से घबरा रहे अखिलेश

चंद्रभूषण पांडेय

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता चंद्रभूषण पांडेय ने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के बयानों का दिया जवाब

लखनऊ: किसान आंदोलन को लेकर जहां एक तरफ किसानों और सरकार के बीच बात बनती नजर नहीं आ रही है। तो वहीं दूसरी ओर किसान आंदोलन को लेकर आरोप और प्रत्यारोप का दौर भी तेजी से बढ़ गया है। इसी कड़ी में भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता चंद्रभूषण पांडेय ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर हमला बोला है। चंद्रभूषण पांडेय ने कहा कि यूपी में कानून के राज में अखिलेश यादव घबरा रहे हैं।

आम से खास तक सभी के लिए नए साल में बदल रहे ये नियम, आप भी जानिए

किसानों के लिए जिसने कभी कुछ भी नहीं किया, वे आज भाजपा के कामों में नुख्श निकाल रहे हैं। किसानों के प्रगति का मार्ग प्रशस्त करने का काम कोई किया है तो वह भाजपा है। किसानों, श्रमिकों में बढ़ती लोकप्रियता को देखकर विपक्ष घबरा गया है। अखिलेश यादव ने तो अपने कार्यकाल में तो आमजन की प्रताड़ना की सारी हदें पार कर दी थी। थाने में घुसकर सपा के गुंडे थानेदार को पिटते थे। भाजपा के कार्यकाल में जब कानून का राज कायम हुआ तो अखिलेश घबराने लगे हैं। इस कारण वे अनर्गल बयान देकर बार-बार आमजन को भड़काने की नाकाम कोशिश कर रहे हैं।

किसान आंदोलन विपक्ष के दिमाग की उपज

ये बातें भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता चंद्रभूषण पांडेय ने गुरुवार को कही। वे सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा बुधवार को दिये बयान “देश नहीं बिकने देने का नारा लगाने वाले लोकतंत्र की मंडी लगाकर बैठ गये हैं।” का जवाब दे रहे थे। भाजपा प्रवक्ता ने हिन्दुस्थान समाचार से विशेष वार्ता में कहा कि किसान आंदोलन विपक्ष के दिमाग की उपज है। विपक्ष ने भोले-भाले किसानों को उकसा कर अपनी राजनीति को चमकाने का नाकाम प्रयास कर रहा है। वह इसमें कामयाब नहीं हो सकते।

चंद्रभूषण पांडेय ने कहा कि किसानों के सर्वांगीण विकास के लिए भाजपा ने ही कार्य किया है। अटल जी ने किसान बही बनाने की शुरूआत की। किसानों को सस्ते ब्याज पर लोन देने की व्यवस्था कराई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उसको आगे बढ़ाते हुए पशुपालकों को भी किसान की श्रेणी में लाकर उन्हें भी लोन देने की व्यवस्था की। आज गांव के पशुपालक भारी मात्रा में लाभांवित हो रहे हैं। अखिलेश यादव के शासन काल में किसान अपना गन्ना बेचकर सिर्फ मुंह देखता रहता था। उसके गन्ना मुल्य का भुगतान वर्षों तक लटका पड़ा रहता था और किसान कर्ज में डुब जाता था। योगी जी ने प्रदेश में बंद पड़ी गन्ना मिलों को चलवाने के साथ ही गन्ना किसानों का सपा के शासनकाल से ही चले आ रहे बकाये का भुगतान कराया।

Related Articles

Back to top button
E-Paper